चीन-नेपाल के राजनयिक संबंधों की स्थापना की 65वीं जयंती पर चीनी और नेपाली नेताओं ने एक दूसरे को बधाई तार भेजे

2020-08-01 16:19:06
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

1 अगस्त को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ एक दूसरे को बधाई तार भेजकर द्विपक्षीय संबंधों के राजनयिक संबंधों की स्थापना की 65वीं वर्षगांठ मनायी।

अपने बधाई तार में शी चिनफिंग ने कहा कि चीन और नेपाल की लम्बी मैत्री है। दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के पिछले 65 सालों में दोनों देश एक दूसरे का सम्मान करते हैं, राजनीतिक आपसी विश्वास को प्रगाढ़ करते हैं और आपसी लाभ व सहयोग को गहरा करते हैं। कोविड-19 के मुकाबले में दोनों देशों ने सहयोग कर एक दूसरे का समर्थन करते हैं। शी ने कहा कि वे चीन-नेपाल संबंधों के विकास को बड़ा महत्व देते हैं और राष्ट्रपति भंडारी के साथ उभय प्रयास कर द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाना चाहते हैं, ताकि क्षेत्रीय स्थिरता और विकास के लिए सक्रिय योगदान दे सकें।

नेपाली राष्ट्रपति भंडारी ने बधाई तार में कहा कि नेपाल-चीन मैत्री बहुत पुरानी है, जिसका गहरा आधार भी है। दोनों पक्षों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के बाद द्विपक्षीय संबंधों का विस्तार किया गया है। नेपाल चीन के मानव साझे भाग्य वाले समुदाय की विचारधारा का स्वागत करता है और इसके सहनिर्माण में सक्रिय रूप से भाग भी लेता है। महामारी के मुकाबले में नेपाल चीन द्वारा दी गयी सहायता का आभार प्रकट करता है। नेपाल चीन के साथ सहयोग कर दोनों देशों के राष्ट्राध्यक्षों द्वारा प्राप्त सहमतियों का कार्यान्वयन करेगा और दोनों देशों व दोनों देशों की जनता को लाभ देगा।

उसी दिन चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग एवं नेपाली प्रधानमंत्री के.पी.शर्मा ओली और चीनी विदेश मंत्री वांग यी एवं नेपाली विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने भी एक दूसरे को बधाई पत्र भेजे।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories