भारत को रणनीतिक गलतफहमी नहीं पालनी चाहिये

2020-07-04 18:53:25
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

इधर के दिनों में जब चीन और भारत सैन्य और राजनयिक मार्गों से संपर्क कर रहे हैं, तब भारत ने आर्थिक और व्यापारिक क्षेत्रों में चीन के खिलाफ कदम उठाये हैं। जैसे चीनी मालों को अधिक कर वसुली लगाना, 59 चीनी एप बैन करना और चीनी कारोबारों की भागीदारी को मना करना आदि।

भारत के उक्त कदमों ने विश्व व्यापार संगठन के नियमों का उल्लंघन किया है और चीनी कारोबारों तथा भारतीय उपभोक्ताओं दोनों को नुकसान पहुंचेगा। विश्लेषकों का मानना है कि चीनी मालों और कारोबारों के खिलाफ कदम उठाने के पीछे भारत सरकार का कोई अन्य उद्देश्य भी मौजूद है। सीमावर्ती मुठभेड़ के बाद भारत सरकार के विरोधी दलों और भूतपूर्व अधिकारियों की तरफ से आलोचना की आवाज सुनी गयी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चीन के खिलाफ जबरदस्त कदम उठाने के लिए दबाव का सामना करना पड़ा है। लेकिन चीन के साथ बड़े पैमाने वाला युद्ध करना कोई बुद्धिमान विकल्प नहीं है। इसलिए भारत सरकार ने चीन के खिलाफ अधिक आर्थिक प्रतिबंध लगाने का रास्ता चुना। दूसरी तरफ भारत को चीन पर अपनी आर्थिक निर्भरता कम करने की उम्मीद है। वर्ष 2019 में चीन और भारत के बीच व्यापार रकम एक खरब अमेरिकी डॉलर से कम रही, जबकि चीन के साथ भारत की व्यापार घाटा 56.77 अरब अमेरिकी डॉलर थी। गत वर्ष भारत ने आरसीईपी में से निकलने का फैसला लिया, जिसके पीछे चीनी उत्पादन वस्तुओं के प्रवेश पर चिन्ता भी है।

उधर, वर्ष 2017 से 2019 तक चीन का भारत में निवेश की मात्रा दस अरब अमेरिकी डॉलर तक रही। इसी को भारत ने भी कम करने का विचार किया। इस वर्ष अप्रैल में भारत ने पड़ोसी देशों के निवेश को विशेष परीसीमन लगाने की घोषणा की। विश्लेषकों का कहना है कि भारत इसी मौके पर आत्मनिर्भरता बढ़ाना चाहता है। 12 मई को भारत ने नयी आर्थिक प्रोत्साहन योजना घोषित की। चीन के साथ सीमांत मुठभेड़ करने के बाद भारतीय सरकार ने इस कार्यक्रम में गति देना शुरू किया है।लेकिन भारत सरकार की चीन को प्रतिबंध लगाने की योजना का परीणाम क्या है इसमें संदेह मौजूद है। स्थानीय मीडिया को शंका है कि आर्थिक प्रतिबंध का विरोध करने के लिए चीन भी जवाबी कदम उठाएगा जिससे भारतीय अर्थतंत्र पर भारी बुरा प्रभाव पड़ेगा। उधर, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 3 जुलाई को कहा कि चीन अपने कारोबारों के हितों की रक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाएगा।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories