भारत में फिर बढ़ा लॉकडाउन, 17 मई तक लगाएगी पाबंदी

2020-05-02 16:12:49
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/5

भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी को देखते हुए भारतीय सरकार ने एक बार फिर लॉकडाउन को दो हफ्ते के लिए बढ़ाने का फैसला कर लिया है। भारतीय गृह मंत्रालय ने 1 मई के शाम को यह आदेश जारी कर दिया है।

गृह मंत्रालय के मुताबिक 3 मई को खत्म होने वाले लॉकडाउन को अब दो सप्ताह यानी कि 17 मई तक जारी रहेगा। और इस दौरान आम लोगों के लिए हवाई यात्रा, रेल और अंतरराज्यीय बस यात्राओं पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। इसके अलावा, इस अवधि में शैक्षणिक संस्थान, थियेटर, मॉल, होटल और बार भी बंद रहेंगे। हालांकि इस अवधि में राहतों का ऐलान भी कर दिया है।

फिलहाल कोरोना महामारी से निपटने के लिए भारतीय सरकार ने पूरे देश के जिलों को तीन भाग हॉटस्पॉट (रेड जोन), नॉन-हॉटस्पॉट (ऑरेंज जोन) और ग्रीन जोन में बांटा है। सरकार की तरफ़ से जारी सूची के अनुसार अब भारत में 130 रेड जोन, जिस में राजधानी दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु और हैदराबाद जैसे मुख्य शहर रेड जोन में शामिल हैं। साथ ही 284 ऑरेंज जोन और 319 ग्रीन जोन भी हैं। सरकार के नियम के अनुसार, 3 मई के बाद रेड जोन को छोड़कर ग्रीन और ऑरेंज जोन में ज्यादातर पाबंदियां हटा ली जाएंगी। 3 मई के बाद ग्रीन जोन में फैक्ट्रियों, दुकानों, छोटे-मोटे उद्योगों समेत ट्रांसपोर्ट और अन्य सेवाओं को शर्तों के साथ पूरी तरह खोलने की अनुमति दे दी गई है। इस अवधि में बसें चल सकेंगी, लेकिन बसों की क्षमता 50% से ज्यादा नहीं होगी। डीपो में भी 50% से ज्यादा कर्मचारी काम नहीं करेंगे। ऑरेंज जोन में बसों के परिचालन की छूट नहीं होगी, लेकिन टैक्सी की अनुमति होगी। टैक्सी में ड्राइवर के साथ एक ही पैसेंजर हो सकता है। ऑरेंज जोन में इंडस्ट्रियल ऐक्टिविटीज शुरू होगी और कॉम्प्लेक्स भी खुलेंगे।

गृह मंत्रालय के अनुसार लॉकडाउन के दौरान पूरे देश में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक जरूरी सेवाओं को छोड़कर लोगों को बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी। इस दौरान लोगों की आवाजाही रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन धारा-144 लागू कर सकता है। साथ ही पूरे ��ेश में 65 से अधिक उम्र के बुजुर्गों और 10 साल के कम उम्र के बच्चों के साथ ही गर्भवती महिलाओं और गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों के घर से निकलने पर पाबंदी रहेगी। वे सिर्फ जरूरी काम से या फिर इलाज के लिए बाहर जा सकते हैं।

आपको बता दें कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमण को काबू करने के लिए लॉकडाउन का प्रथम चरण 25 मार्च से 14 अप्रैल तक था, जिसे बाद में बढ़ा कर 3 मई तक (दूसरा चरण) किया गया था। लॉकडाउन को दो और हफ्ते के लिए बढ़ाने का फैसला ऐसे समय में लिया गया है, जब विभिन्न राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।

भारत के स्वास्थ्य विभाग के ताज़े आंकड़े के अनुसार, 2 मई के सुबह 8 बजे तक, भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का कुल 37336 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, कोरोना वायरस से अब तक 1218 लोगों की मौत हो चुकी है। साथ ही 9951 मरीजों को अस्पताल में इलाज़ कराके ठीक भी हो गए हैं। (रमेश)

शेयर