सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

भाजपा नेता को चीन के नये कोरोना वायरस निमोनिया को रोकने के बारे में जानकारी दीः भारत स्थित चीनी राजदूत

2020-02-03 11:44:45
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

भारत स्थित चीनी राजदूत स्वन वेइतोंग ने हाल में भाजपा के नेता विजय जॉली से मुलाकात की।

मुलाकात में विजय जॉली ने कहा कि चीन द्वारा नये कोरोना वायरस निमोनिया का मुकाबला करने के कठिन वक्त पर वे चीन और चीनी जनता को सद्भावना प्रकट करना चाहते हैं। भारत चीन का मैत्रीपूर्ण पड़ोसी देश है। हाल में चीन में करीब 50 हजार से अधिक भारतीय लोग हैं, जिन में अधिकांश भारतीय छात्र हैं। भारत में उन के परिवारजन पश्चिमी मीडिया की कुछ गलत रिपोर्टों को देखकर उन की सुरक्षा पर बहुत चिंतित हैं। आशा है कि राजदूत स्वन इस महामारी का निपटारा करने के लिए चीन के कदम के बारे में जानकारी दे सकेंगे।

स्वन ने कहा कि इस महामारी के पैदा होने के बाद चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग इस पर बड़ा ध्यान देते हैं और उन्होंने अनेक बार अहम निर्देश दिये। चीन की केंद्र सरकार ने महामारी का मुकाबला करने के नेतृत्व दल की स्थापना की और रोकथाम के कार्य में बड़ा महत्व दिया। अब चीन ने वुहान और हुपेई के केंद्र वाली केंद्र सरकार से स्थानीय सरकारों तक बहुसत्रीय रोकथाम की सिस्टम की स्थापना की। वुहान इस महामारी का स्रोत क्षेत्र और रोकथाम का अहम क्षेत्र भी है। इस महामारी के फैलने से रोकने के लिए वुहान शहर ने पूरे शहर में यातायात को बंद किया और लोगों के बाहर आने जाने पर भी नियंत्रित किया। चीन ने इसलिए इन सख्त कदम उठाये, मकसद है कि इस महामारी को जल्द ही जल्द नियंत्रित करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि हाल में देश के करीब 50 से अधिक चिकित्सक दलों और 6000 से अधिक चिकित्सकों ने हुपेई प्रांत जाकर सहायता की है। स्थानीय सप्लाई पर्याप्त है। चीन ने दसों दिनों में वुहान में दो आपात अस्तपालों का निर्माण किया। अभी तक 200 से अधिक मरीज पुनःस्वस्थ होकर अस्पताल को छोड़ा है। साथ ही चीन ने अंतर्राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वस्थ क्षेत्र के सहयोग को भी मजबूत किया। चीन और भारत को सहयोग करना चाहिए। हमें पक्का विश्वास है कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में चीन महामारी की अंतिम विजय पा सकेगा। चीन भारत समेत अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ सार्वजनिक स्वस्थ सहयोग को और मजबूत करेगा। आशा है कि भारत चीन के प्रयास को समझ सकेगा, विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाव का सम्मान करेगा और दोनों देशों के बीच सामान्य मानवीय और व्यापारी सहयोग को बरकरार रखकर इस कठिन वक्त को बिता सकेगा।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories