नेपाली में भेरी बाबाई जल सुरंग से चीनी और नेपाली नागरिकों के दिल जुड़े

2019-04-23 20:02:42
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

दक्षिण पश्चिमी नेपाल के पहाड़ी क्षेत्र से गुज़र रही भेरी नदी का पानी प्रचुर है। लेकिन पहाड़ के दूसरी तरफ़ बाबाई नदी में पानी के अभाव है, जो स्थानीय कृषि सिंचाई और अनाज उत्पादन पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। जून 2016 से भेरी बाबाई जल सुरंग परियोजना का कार्यान्वयन शुरु हुआ। अप्रैल 2019 में इस परियोजना का निर्माण पूरा हुआ, जो ज्ञापन में निर्धारित समय से एक साल कम है। इस जल सुरंग से स्थानीय नेपाल वासियों को बड़ा लाभ मिला, और चीनी और नेपाली नागरिकों के बीच दिल की दूरी कम हुई।

76 वर्षीय नेपाली वयोवृद्ध कर्ण बरन शाही बाबाई नदी के तटीय गांव में रहता है, उसने कहा कि खेती भूमि में सिंचाई, अनाज के उत्पादन और भर पेट खाना उसकी जिंदगी का सपना है। शाही ने कहा कि भेरी बाबाई जल सुरंग उसके लिए अत्यंत मह्त्वपूर्ण है। सिंचाई के अलावा, पेय जल वाला सवाल भी हल किया गया। वे चीनी निर्माता का आभारी है।

गौरतलब है कि भेरी बाबाई जल सुरंग परियोजना में चीनी योजना लागू की गयी, अमेरिका के उपकरणों का उपयोग किया गया और पर्यवेक्षण कंपनी इटली की है, जिसके साथ अंतर्राष्ट्रीय सहयोग किया गया है, एक बार फिर "बेल्ट एंड रोड" पहल के समान विचार-विमर्श, समान निर्माण और साझा करने के सिद्धांत की व्याख्या की गई है । भेरी बाबाई जल सुरंग की लंबाई 12.2 किलोमीटर है।

(श्याओ थांग)


शेयर