विश्व हिंदी दिवस मनाया गया

2019-01-10 17:28:11
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
4/5

चीन के साथ-साथ दुनिया के अन्य हिस्सों में भी विश्व हिंदी दिवस का आयोजन हुआ। इस अवसर पर सभी वक्ताओं ने हिंदी के प्रचार-प्रसार में अधिक योगदान देने की अपील की। साथ ही हिंदी के व्यापक इस्तेमाल पर भी जोर दिया गया।

इस दौरान शंघाई के कौंसलावास ने प्रवासी भारतीय दिवस और विश्व हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर कार्यक्रम आयोजित किया। इसमें चीन से निकलने वाली हिंदी पत्रिका, समन्वय हिंची का मुखपृष्ठ भी जारी किया।

प्रधान कौंसुल अनिल कुमार राय ने पत्रिका को लेकर किए शानदार प्रयास के लिए संपादक मंडल और लेखकों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि भविष्य में भी यह पत्रिका निकलती रहनी चाहिए। जो हिंदी को बढ़ावा देने की दिशा में एक प्रमुख कदम होगा। इसके अलावा हिंदी दिवस पर शंघाई अंतर्राष्ट्रीय भाषा विश्वविद्यालय में हिंदी के प्रोफेसर नवीन लोहनी और छात्र-छात्राओं ने भी हिंदी के महत्व पर बल दिया। बहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत आशीष गोरे, शिक्षक राजीव रंजन के साथ-साथ अनीता शर्मा, पल्लवी गोरे आदि ने बेझिझक हिंदी का प्रयोग करने की अपील की।

वहीं क्वांगचो में भी भारतीय कौंसलेट जनरल द्वारा हिंदी दिवस मनाया गया। जिसमें कई शिक्षकों व हिंदी से गहरा लगाव रखने वाले लोगों ने भाग लिया।

ध्यान रहे कि हिंदी एक तरह से विविध भाषा है, जो अपने आप में तमाम भाषाओं के शब्दों को समेटे हुए है। अरबी, फारसी, तुर्की व अग्रेज़ी सहित तमाम क्षेत्रीय भाषाओं के शब्द हिंदी में आसानी से मिल जाते हैं।

गौरतलब है कि पहला विश्व हिंदी सम्मेलन 1975 में आयोजित किया गया था। इसके बाद मॉरीशस, दिल्ली के अलावा दक्षिण अफ्रीका आदि देशों में सम्मेलन आयोजित किये जा चुके हैं। वैसे विश्व हिंदी दिवस के अलावा 14 सितंबर को भी हिंदी दिवस मनाया जाता है।

दुनिया में सबसे अधिक नेटिव स्पीकरों यानी मातृ भाषा बोलने वालों की सूची में हिंदी का चौथा स्थान है। मातृ भाषा बोलने वालों की संख्या 295 मिलयन है। जबकि चीनी भाषा मैंडेरिन बोलने वालों की संख्या 935 मिलयन है। अगर दुनिया में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं की बात करें तो हिंदी यानी हिंदुस्तानी को 497 मिलयन स्पीकर्स के साथ तीसरा स्थान हासिल है।



अनिल आज़ाद पाण्डेय


शेयर