चीन-भारत मैत्री का कर्तव्य निभाएं दोनों देशों के युवा

2018-11-29 16:57:07
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4

भारतीय युवा मामले एवं खेल मंत्रालय के निमंत्रण पर चीनी युवा प्रतिनिधिमंडल 27 नवम्बर को भारत की राजधानी दिल्ली पहुंचा। 187 चीनी युवा 27 नवम्बर से 3 दिसम्बर तक दिल्ली, आगरा, मुम्बई और कोलकाता का दौरा करेंगे और स्थानीय युवाओं के साथ आदान-प्रदान करेंगे।

28 नवम्बर को चीनी युवा प्रतिनिधि मंडल भारत स्थित चीनी दूतावास पहुंचा। मौके पर भारत स्थित चीनी राजदूत ल्वो चाओह्वेई ने कहा कि चीन और भारत विश्व में सब से बड़ी आबादी वाले दो देश हैं। भविष्य में चीन-भारत मैत्रीपूर्ण विकास का कर्तव्य दोनों देशों के युवाओं को निभाना चाहिए। ल्वो ने आशा जताई कि भारत यात्रा के दौरान चीनी युवा अपनी आंखों से भारत को देखेंगे और द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाऐंगे। भारत के आईटी, अंतरिक्ष और जैविक फार्मेसी आदि क्षेत्रों में प्राप्त उपलब्धियां चीनियों के लिए सीखने योग्य हैं। साथ ही चीन और भारत दोनों पर्यावरण के प्रदूषण की समस्या का सामना कर रहे हैं। दोनों को सहयोग को मजबूत कर एक साथ निपटारा करना चाहिए। ल्वो ने कहा कि भारत की यात्रा करने वाले हरेक चीनी युवा गैरसरकारी दूत है। उन्हें चीन-भारत मैत्री का प्रसार करना चाहिए और चीन-भारत संबंध के मैत्रीपूर्ण विकास को आगे बढ़ाना चाहिए।

गौरतलब है कि चीन और भारत के युवाओं के बीच आदान प्रदान की गतिविधियां 2006 से शुरू हुई। अब तक कुल 3700 से ज्यादा चीनी व भारतीय युवा एक दूसरे देश की यात्रा कर चुके हैं।

(श्याओयांग)

शेयर