“विश्वास और सहयोग की लम्बी दीवार का साझा निर्माण करे”- चीनी और भारतीय युवाओं का संवाद गतिविधि आयोजित

2018-11-18 15:25:59
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/7

भारत स्थित चीनी दूतावास ने हाल में चीनी और भारतीय युवाओं के संवाद वाली गतिविधि का आयोजन किया, जिसमें भारत के राजनीति, अर्थतंत्र, व्यापार, शिक्षा, संस्कृति और मीडिया आदि जगतों के श्रेष्ठ युवाओं, भारत में अध्ययन कर रहे चीनी छात्रों के प्रतिनिधियों और दूतावास में युवा कूटनीतिज्ञों समेत 150 लागों ने भाग लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खास कर बधाई संदेश भेजकर दोनों देशों के युवाओं से“विश्वास और सहयोग की लम्बी दीवार”स्थापित करने की प्रेरण की। उन्होंने कहा कि भारत और चीन के युवाओं के बीच आयोजित इस संवाद गतिविधि से दोनों देशों के युवा लोगों को एक दूसरे देश की प्राचीन सभ्यता और रंगबिरंगी संस्कृति को जानने का विशेष अवसर प्रदान किया गया है, साथ ही साथ दोनों देशों के युवाओं के भारत-चीन विश्वास और सहयोग वाली लंबी दीवार स्थापित करने का बेहतर मंच मुहैया करवाया गया है।

भारत में चीनी राजदूत लुओ चाओहुई ने भाषण देते हुए कहा कि चीन विश्व में सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है, जबकि भारत विश्व में सबसे अधिक युवाओं का देश है। दोनों देशों के युवाओं के हाथ मिलाने से बहुत बड़ी शक्ति बन जाएगी। इतिहास में पीढ़ी दर पीढ़ी श्रेष्ठ युवा लोग प्राचीन रेशम मार्ग के माध्यम से एक दूसरे से सीखते थे। वे चीन-भारत सांस्कृतिक आदान-प्रदान को आगे बढ़ाने के अग्र-दूत थे। वर्तमान में बहुत ज्यादा चीनी लोग भारत और भारतीय संस्कृति के प्रेमी हैं। बॉलिवुड फिल्मों को देखना, योगाभ्यास करना और दार्जिलिंग चाय का स्वाद लेना चीनी युवाओं में एक फैशन बन गया है।

लुओ चाओहुई ने कहा कि इस वर्ष अप्रैल महीने में दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच वूहान अनौपचारिक भेंट-वार्ता हुई, तब से लेकर अब तक चीन-भारत संबंध एक्सप्रेस रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। बेहतरीन द्विपक्षीय मित्रवत संबंधों ने युवाओं के बीच आदान-प्रदान के लिए मजबूत नींव और बेहतर मौका मुहैया करवाया है। दोनों देश आर्थिक सुधार और खुली नीति अपना रहे हैं, आपस में विकास की रणनीति को जोड़ने के लिए दोनों देशों के युवाओं के बीच सहयोग की आवश्यकता है।      

लुओ चाओहुई ने चीनी और भारतीय युवाओं के सहयोग को लेकर छह सूत्री प्रस्ताव पेश किए। यानी भारतीय श्रेष्ठ युवा संघ के बीच आदान-प्रदान को मजबूत किया जाए। द्विपक्षीय युवा आदान-प्रदान का दायरा विस्तार करते हुए विभिन्न शहरों के युवाओं के बीच संवाद का आयोजन किया जाए। खेल, फिल्म और टीवी आवाजाही को मजबूत किया जाए। अधिक भारतीय युवा इंजीनियरों को चीन में काम करने के लिए प्रेरित किया जाए। एक दूसरे देश में अध्ययन करने के लिए युवाओं को प्रोत्साहन किया जाए, और भारत सरकार के साथ“युवा आदान-प्रदान योजना”बनाने का सहयोग किया जाए।  

संवाद गतिविधि में प्रधानमंत्री मोदी समेत नेताओं द्वारा भेजे गए बधाई संदेश को संग्रहित“भारत-चीन मैत्री पुस्तिका”रिलीज हुई। दोनों देशों के युवाओं ने चीन-भारत राजनीतिक संबंध, सांस्कृतिक शैक्षिक सहयोग, चीन-भारत आर्थिक, व्यापारिक, वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग, द्विपक्षीय संबंध के विकास, सॉफ्ट निर्माण की उन्नति, मानविकी आदान प्रदान, “चीन-भारत प्लस”सहयोग और चीन में वायु प्रदूषण विरोधी अनुभव आदि विषयों पर विचार विमर्श किया।

(श्याओ थांग)

शेयर