दिल्ली:पहली चीन भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता आयोजित

2018-10-23 09:46:38
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

दिल्ली:पहली चीन भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता आयोजित

दिल्ली:पहली चीन भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता आयोजित

चीन और भारत के बीच कानून कार्यान्वयन सुरक्षा की पहली उच्च स्तरीय वार्ता 22 अक्तूबर को दिल्ली में आयोजित हुई। चीनी स्टेट काउंसिलर, सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री चाओ ख-ची और भारतीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने इसकी अध्यक्षता की।

चाओ ख-ची ने कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस वर्ष अप्रैल में वूहान में सफलतापूर्ण रूप से अनौपचारिक भेंटवार्ता की, जिससे चीन-भारत संबंध के विकास में नया अध्याय जुड़ गया। चीन और भारत को अच्छे पड़ोसी और अच्छे दोस्त होने चाहिए। द्विपक्षीय कानून कार्यान्वयन सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग की बड़ी निहित शक्ति और विशाल भविष्य मौजूद है। चीन-भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता व्यवस्था की स्थापना और इसकी पहली वार्ता आयोजित करना, द्विपक्षीय संबंध के विकास, कानून कार्यान्वयन सुरक्षा सहयोग के स्तर की उन्नति के लिए बहुत सार्थक है। आशा है कि दोनों पक्ष दोनों देशों के नेताओं द्वारा संपन्न अहम आम सहमतियों का संजीदगी के साथ कार्यान्वयन करते हुए रणनीतिक संपर्क को मजबूत करेंगे। उच्च स्तरीय वार्ता व्यवस्था की भूमिका निभाते हुए आतंकवाद का विरोध करने, अलगाववादी शक्ति का मुकाबला करने और सीमा-पार अपराध पर हमला करने आदि क्षेत्रों में अधिक वास्तविक सहयोग करेंगे। कानून कार्यान्वयन विभागों के बीच आदान-प्रदान और सहयोग का दायरा विस्तार करेंगे। अपने देश में दूसरे देश की राष्ट्रीय परियोजनाओं, संस्थाओं, व्यक्तियों की सुरक्षा की कारगर रूप से रक्षा करेंगे, ताकि दोनों देशों की समान समृद्धि और विकास के लिए सुरक्षित और स्थिर स्थिति तैयार हो सके।   

दिल्ली:पहली चीन भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता आयोजित

दिल्ली:पहली चीन भारत कानून कार्यान्वयन सुरक्षा उच्च स्तरीय वार्ता आयोजित

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत चीन के साथ दोनों देशों के नेताओं द्वारा संपन्न महत्वपूर्ण आम सहमतियों का अच्छी तरह कार्यान्वयन करते हुए राजनीतिक आपसी विश्वास को आगे बढ़ाना चाहता है, संपर्क और सहयोग को घनिष्ठ करते हुए आपसी लाभ वाले सहयोग का विस्तार करना चाहता है। इसके साथ ही आतंकवाद का विरोध करने, अलगाववादी शक्ति का मुकाबले करने और सीमा-पार अपराध पर हमला करने आदि क्षेत्रों में वास्तविक सहयोग भी करना चाहता है, ताकि द्विपक्षीय कानून कार्यान्वयन सुरक्षा सहयोग और संबंध लगातार मजबूत किया जा सके।

वार्ता के बाद चाओ ख-ची और राजनाथ सिंह ने“चीनी सार्वजनिक सुरक्षा मंत्रालय और भारतीय गृह मंत्रालय की सहयोगी संधि”पर हस्ताक्षर किए।

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories