चीन-भारत अफगान राजनयीकों को देंगे प्रशिक्षण, दिल्ली में शुभारंभ

2018-10-16 11:02:06
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

स्थानीय समय के अनुसार 15 अक्तूबर को चीन और भारत द्वारा अफगान राजनयिकों को प्रशिक्षण देने की परियोजना का शुभारंभ समारोह नई दिल्ली के राजनयिक अकादमी में आयोजित हुआ। भारत स्थित चीनी राजदूत ल्वो च्याओ ह्वी, भारतीय राजनयिक अकादमी के अध्यक्ष जे एस मुकुल, भारत स्थित अफगान अस्थायी कार्यदूत मोहम्मद खैरुल्लाह आज़ाद ने समारोह में तीनों देशों के विदेश मंत्रियों के बधाई पत्र पढ़े और भाषण भी दिया।

चीनी स्टेट कांउंसिलर, विदेश मंत्री वांग यी ने अपने बधाई पत्र में इस परियोजना को शुरू करने के लिए बधाई दी और कहा कि इस वर्ष से चीनी राष्ट्रपति शी चिन फिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई बार मुलाकात की, चीन और भारत प्सल के सहयोग पर महत्वपूर्ण सहमति बनाई, अफगानिस्तान को प्राथमिकता भागीदार के रूप में चुना और अफगान राजनयिकों को संयुक्त प्रशिक्षण देने से शुरू करने के लिए सहमति भी बनाई। यह शुभारंभ समारोह दोनों देशों की महत्वपूर्ण सहमति पर अमल करने का एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे क्षेत्रीय मामलों में चीन और भारत के बीच दिन प्रति दिन घनिष्ठ सहयोग और ताल-मेल बढ़ा है, जो नए क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंधों के नए विकास का एक प्रतीक भी है।

भारत स्थित चीनी राजदूत ल्वो च्याओ ह्वी ने बधाई पत्र पढ़ने के बाद कहा कि अफगान मामले पर चीन और भारत के कई समान हित और रूख हैं, जो अफ़ग़ानिस्तान में द्विपक्षीय और बहुपक्षीय सहयोग करने के लिए आधार बनाया गया।

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बधाई पत्र में कहा कि चीन और भारत द्वारा अफगान राजनयिकों को प्रशिक्षण देने की परियोजना भारतीय प्रधानमंत्री नरंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिन फिंग के बीच वू हान अनौपचारिक मुलाकात की महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जो भारत, चीन और अफ़ग़ानिस्तान के बीच दीर्घकालिक साझेदारी की शुरुआत का प्रतीक है।(वनिता)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories