चीन ने हंबनटोटा पोर्ट के निर्माण में नयी तकनीक का प्रयोग किया

2018-08-31 17:21:12
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6

वर्ष 2018 एक पट्टी एक मार्ग पेश करने की पाँचवीं वर्षगांठ है। पाँच सालों में चीन ने 34 देशों के 42 पोर्टों के निर्माण व संचालन में भाग लिया। महासागर शिपिंग सेवा ने एक पट्टी एक मार्ग से जुड़े देशों को कवर किया। और शिपिंग का आपसी संपर्क सूचकांक भी विश्व में पहले स्थान पर रहा। दक्षिण श्रीलंका के समुद्र तट पर स्थित हंबनटोटा पोर्ट एशिया से यूरोप तक के मुख्य चैनल के चौराहे पर स्थित है, जो 21वीं शताब्दी के समुद्रीय रेशम मार्ग का एक महत्वपूर्ण स्थल है। चीन ने अपने आधारभूत सुविधाओं के निर्माण में प्राप्त उच्चतम तकनीक व अनुभव लेकर हंबनटोटा पोर्ट के आर्थिक निर्माण में इस का प्रयोग किया।

गौरतलब है कि वर्ष 2017 के 29 जुलाई को चीनी मर्चेंट पोर्ट होल्डिंग्स कंपनी लिमिटेड ने श्रीलंकाई पोर्ट मामला ब्यूरो के साथ हंबनटोटा के विशेष प्रबंधन अधिकार प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किये। दोनों पक्षों ने एक साथ दो संयुक्त कंपनियों यानी एचआईपीजी व एचआईपीएस की स्थापना की, जो हंबनटोटा पोर्ट का वाणिज्यिक प्रबंध व संचालन करती हैं।

चंद्रिमा

शेयर