श्रीलंका:चीनी पुरातत्वविदों ने पाया समुद्री रेशम मार्ग से जुड़े महत्वपूर्ण अवशेष

2018-08-21 18:29:18
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

उत्तरी श्रीलंका के बंदरगाह शहर जाफना में पुरातत्व कार्य कर रहे चीनी शांगहाई संग्राहलय के पुरातत्व दल ने 21अगस्त को कहा कि चीन और श्रीलंकाई पुरातत्व परियोजना यानी अल्लैपिद्दय खंडहर की खुदाई का कार्य इस महिने की 10 तारीख को शुरु हुआ, अभी तक प्रारंभिक प्रगति हासिल हुई। खुदाई से प्राप्त सांस्कृतिक विरासतों में मुख्यतः उत्तरी सोंग राजवंश यानी वर्ष 960 से 1127 तक के समय के चीनी मिट्टी के बर्तनों के टुकड़े हैं।     

इस दल के प्रमुख, शांगहाई संग्रहालय के पुरातत्व अनुसंधान विभाग के प्रधान छन च्येइ के मुताबिक दोनों देशों के संयुक्त पुरातत्वविद 40 दिनों तक खुदाई कार्य करेंगे। अब तक 40 वर्गमीटर की खुदाई की जा चुकी है, जहां प्राप्त प्राचीन चीनी मिट्टी के बर्तनों की टुकड़ी तत्कालीन समुद्री व्यापार से संबंधित है। इससे चीन और श्रीलंका के बीच आवाजाही के इतिहास में इस खंडहर का महत्वपूर्ण स्थान जाहिर हुआ और साथ ही साथ समुद्री रेशम मार्ग की व्यापारिक लाइन और व्यापार तरीके के अनुसंधान के लिए भी बहुत सार्थक है।  

बताया गया है कि यह चीन और श्रीलंका के बीच पहली बार संयुक्त रूप से औपचारिक तौर पर पुरातत्व खुदाई का कार्य करना है।

(श्याओ थांग)  

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories