भारत स्थित चीनी राजदूत ने किया पंजाब का दौरा

2018-08-14 10:31:06
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/11
चीनी राजदूत दंपति ​पंजाब के राज्यपाल बदनौर के साथ

हाल में भारत स्थित चीनी राजदूत लुओ चाओहुइ और पत्नि च्यांग यीली ने पश्चिमोत्तर भारत के पंजाब राज्य का दौरा किया और राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाकात की। राजदूत ने कहा कि वर्तमान में चीन-भारत संबंध का बेहतर विकसित रूझान बरकरार है। इस वर्ष चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच तीन बार मुलाकात हुई, जो कि द्विपक्षीय संबंध का जबरदस्त मार्गदर्शन है। पंजाब पश्चिमोत्तर भारत का महत्वपूर्ण राज्य है, चीन अपने उद्योगों के पंजाब के साथ अर्थतंत्र, व्यापार, निवेश और कृषि सहयोग का समर्थन करता है। इसके साथ ही शिक्षा, संस्कृति, पर्यटन, विज्ञान और तकनीक आदि क्षेत्रों में मित्रवत आवाजाही का विस्तार करना चाहता है, ताकि चीन-भारत संबंध के विकास में और ज्यादा प्रेरित शक्ति संचार हो सके।  

पंजाब के राज्यपाल बदनौर ने राजदूत लुओ चाओहुइ का हार्दिक स्वागत किया और कहा कि चीन ने आर्थिक सामाजिक विकास में भारी उपलब्धियां हासिल कीं। पंजाब चीन के साथ कृषि, पर्यावरण संरक्षण, चिकित्सा, स्वास्थ्य, शिक्षा और पर्यटन आदि क्षेत्रों में वास्तविक सहयोग मजबूत करना चाहता है, ताकि भारत-चीन संबंध के विकास में और ज्यादा योगदान दे सके। 

वहीं, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि इधर के सालों में पंजाब की आर्थिक वृद्धि तेज़ रही है, यहां ज्यादा विदेशी निवेश की जरूरत है। उन्होंने अधिक चीनी उद्योगों के पंजाब में निवेशकों और पर्यटकों का स्वागत किया।

राजधानी चंडीगढ़ की यात्रा के बाद राजदूत लुओ ने लुधियाना शहर में स्थित डॉ. कोटनीस एक्यूपंक्चर परोपकारी अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने कहा कि साल 1938 में डॉ. कोटनीस जापानी आक्रमण विरोधी युद्ध में चीन का समर्थन करने के लिए आये थे। उनका देहांत 1942 में हुआ। उन्होंने अपने खून से चीन-भारत मैत्री को मजबूत किया। डॉ. कोटनीस चीन में बहुत लोकप्रिय बहादुर हैं। उनकी भावना से चीनी और भारतीय लोग प्रेरित होते हैं। वर्तमान में चीन-भारत संबंध का विकसित रूझान अच्छा है, जिसका श्रेय दोनों देशों के नेताओं के बुद्धिमान सामरिक मार्गदर्शन को जाता है, इसके साथ ही दोनों देशों के नागरिकों के सक्रिय समर्थन से भी अलग नहीं किया जा सकता। हम भारतीय सरकार और जनता के साथ मिलकर सहयोग पर केंद्रित होते हुए जन जीवन के विकास पर जोर देंगे, ताकि समान समृद्धि और प्रगति हासिल की जा सके।

यात्रा के दौरान राजदूत लुओ चाओहुइ ने भारत-चीन मैत्रीपूर्ण संघ की पंजाब शाखा के नेता से भेंट की और स्वर्ण मंदिर का दौरा भी किया। उन्होंने स्थानीय कृषि विकास की स्थिति जानने ग्रामीण निरीक्षण दौरा भी किया और वाघा सीमा पर राष्ट्रीय ध्वज उतारने की रस्म में भी भाग लिया।

(श्याओ थांग) 

शेयर