व्यापार युद्ध के ज़रिये अमेरिका के चीन का विरोध करने की चाल नहीं चल सकेगी :भारतीय मीडिया व्यक्ति

2018-07-07 18:57:11
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अमेरिकी समय के अनुसार 6 जुलाई को अमेरिकी सरकार के 34 अरब अमेरिकी डॉलर के चीनी उत्पादों पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने का कदम आधिकारिक रूप से प्रभावी हुआ। इस बात का जवाब देने के लिये उस दिन चीन ने समान पैमाने के अमेरिकी उत्पादों पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने का आरंभ किया। इस पर एनडीटीवी के अंतर्राष्ट्रीय मामला विभाग की मुख्य संपादक कादम्बिनी शर्मा ने कहा कि व्यापार युद्ध से अमेरिका के चीन का विरोध करने की चाल नहीं चल सकेगी।

कादम्बिनी शर्मा ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प ने इस बार का व्यापार युद्ध सबसे पहले उकसाया है। उन्होंने नि: शुल्क व्यापार नियमों का गंभीर उल्लंघन किया। वर्तमान में विश्व पैटर्न में गहन बदला है। चीन दुनिया में पहली सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनी। ट्रम्प मौजूदा विश्व पैटर्न को पहचान नहीं सकते और “अमेरिका की प्राथमिकता” जारी रखते हैं। उन्हें उम्मीद है कि अवरोध के जरिये वे अन्य देशों को अमेरिका के अनुगामी बनने के लिये मजबूर कर सकेंगे। लेकिन यह चाल सफल नहीं होगी।

शर्मा ने आगे कहा कि अमेरिकी वित्त जगत को इस व्यापार युद्ध पर काफी चिंतित लगता है। व्यापार युद्ध का एकमात्र परिणाम दोनों पक्षों की हानि होगी। इससे न केवल अंतर्राष्ट्रीय वित्त बाज़ार को नुकसान पहुंचाएगा, बल्कि विश्व आर्थिक सुधार प्रक्रिया में खतरा पैदा होगा।(हैया)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories