श्रीलंका का विकास चीन के समर्थन से अलग नहीं:सिरिसेना

2018-05-13 16:20:26
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

श्रीलंका का विकास चीन के समर्थन से अलग नहीं:सिरिसेना

11 मई को श्रीलंका में चीनी राजदूत छन श्वेएय्वान ने श्रीलंकाई राष्ट्रपति भवन में श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना के साथ चीन-श्रीलंका संबंधों और एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण पर गहन रूप से बातचीत की।

सिरिसेना ने कहा कि श्रीलंका-चीन मित्रता का इतिहास बहुत लंबा है। लंबे समय में चीन ने श्रीलंका के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिये बड़ी सहायता की है। इसके लिये उन्होंने बहुत धन्यवाद दिया। भविष्य में श्रीलंका अपने देश के विकास का लक्ष्य पूरा करना और हिंद महासागरी क्षेत्र का आर्थिक केंद्र बनना चाहता है। जो चीन के समर्थन से अलग नहीं होगा। श्रीलंका दृढ़ता से एक पट्टी एक मार्ग सुझाव का समर्थन करता है, और दोनों देशों के बड़े सहयोग कार्यक्रमों पर बड़ा ध्यान देता है। मैंने सरकार के संबंधित विभागों से ठोस मामलों का समाधान करने और कार्यक्रम में प्रगति हासिल करने का आग्रह किया। श्रीलंका ज्यादा से ज्यादा चीनी पूंजी का आकर्षण करने की प्रतीक्षा में है।

छन श्वेएय्वान ने कहा कि चीन चीन-श्रीलंका मित्रवत संबंधों पर बड़ा ध्यान देता है, और दोनों देशों के नेताओं द्वारा प्राप्त महत्वपूर्ण सहमतियों को अच्छे से लागू करना चाहता है। हमें एक साथ चर्चा, एक साथ निर्माण और एक साथ साझा की नीति-नियम के आधार पर एक पट्टी एक मार्ग की ढांचे के तले चीन-श्रीलंका के व्यवहारिक सहयोग करना, और दोनों देशों, दोनों देशों की जनता को लाभ पहुंचाना चाहिये। विश्वास है कि दोनों पक्षों की समान कोशिश से खास तौर पर राष्ट्रपति के ध्यान में कोलंबो बंदरगाह शहर समेत कार्यक्रमों में ज़रूर तेज विकास होगा। (चंद्रिमा)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories