सीमा पार ई-कॉमर्स के विकास ने विश्व व्यापार में डाली जीवित शक्ति

2020-11-10 10:40:24
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

इस साल कोविड-19 के प्रकोप से विश्व व्यापार में मंदी आयी है। लेकिन इंटरनेट तकनीक और अंतर्राष्ट्रीय रसद सेवा पर आधारित सीमा पार ई-कॉमर्स नयी परिस्थिति में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का नया विकास क्षेत्र बन चुका है और विश्व अर्थतंत्र को नयी प्रेरणा शक्ति मिली है।

चीन के तीसरे अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो में अफ्रीका के इथियोपिया की कॉफी ब्रांड ने चीनी अलीबाबा के सीमा पार ई-कॉमर्स प्लेटफार्म टीमॉल इंटरनेशनल में दुकान खोलने पर समझौता किया। न सिर्फ इथियोपिया की कॉफी, न्यूजीलैंड के फल, जर्मनी के पानी का शुद्धिकरण यंत्र और थाईलैंड के लेटेक्स तकिया आदि उत्पादक भी सीमा पार ई-कॉमर्स प्लेटफार्म के जरिए तेज़ी से चीनी उपभोक्ताओं के घर आने लगे हैं। विश्व का सबसे बड़ा कीवी फल विक्रेता न्यूजीलैंड के चाफेइ कंपनी के चीनी बाजार के मैनेजर च्यांग शिच्येइ ने हाल में जानकारी दी कि महामारी के प्रकोप के दौरान चाफेइ कंपनी की ऑनलाइन बिक्री तेज़ी से बढ़ चुकी है, जो कंपनी की कुल बिक्री की करीब 25 से 30 प्रतिशत तक पहुंची है।

चीन के पास करीब 1.4 अरब आबादी वाला विशाल उपभोग बाजार है, साथ ही चीन में विश्व में सबसे बड़ा पैमाने वाला मध्यम आमदनी वाला समूह मौजूद है। इस साल से चीन में सीमा पार ई-कॉमर्स का बड़ा विकास हुआ है। चीनी ई-कॉमर्स वाणिज्य संघ के महासचिव फंग लिहुए ने कहा कि महामारी के दौरान चीन में सीमा-पार ई-कॉमर्स का आयात-निर्यात रकम में बढ़ोतरी हुई है। चीनी वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़े बताते हैं कि इस साल की पहली तीन तिमाही में देश में ऑनलाइन रिटेल 80 खरब युआन को पार कर गया है। जिसमें पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 9.7 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। सीमा पार ई-कॉमर्स के डिजिटल विकास के साथ सीमा पार ई-कॉमर्स के नये व्यवसाय और नये सेवा फार्मूला भी नजर आएंगे।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories