नांगछ्येन काउंटी :काले मिट्टी के बर्तन बनाने से मिली गरीबी से मुक्ति

2020-10-18 17:16:12
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
6/7
कारखाने में कर्कामचारी ले मिट्टी के बर्तन बनाते हुए

छिंगहाई प्रांत के य्वीशू तिब्बती स्वायत्त प्रिफेक्चर की नांगछ्येन काउंटी में तिब्बती शैली वाले काले मिट्टी के बर्तन बनाने की कला का 4 हज़ार से अधिक वर्ष पुराना इतिहास है। इसके बारे में एक प्रथा भी प्रचलित है। कहते हैं कि थांग राजवंश की राजकुमारी वनछङ और तत्कालीन तिब्बत के थूपो वंश के राजा सोंगचान कानपू के साथ शादी के लिए राजधानी छांगआन से रवाना हुई। रास्ते में राजकुमारी का काफिला य्वीशू से गुजरा। उन्होंने मिट्टी के बर्तन बनाने का ख़ास कौशल स्थानीय तिब्बती नागरिकों को सिखाया, जिससे स्थानीय मिट्टी के बर्तन बनने की तकनीक और संपूर्ण हो गई। इसे तिब्बती और हान जाति की संस्कृति के मिश्रण का फल माना जाता है।

पाईमा छ्युनच्या 12 साल की उम्र से ही काले मिट्टी के बर्तन बनाने का कौशल सीखने लगे। वह काले मिट्टी के बर्तन बनाने वाले परिवार में 13वीं पीढ़ी के उत्तराधिकारी हैं। देश में गरीबी उन्मूलन वाले अभियान में नांगछ्येन काउंटी में भी गरीबी उन्मूलन कार्य जोरों पर है। ज्यादा से ज्यादा चरवाहों को काले मिट्टी के बर्तन बनाने का कौशल हासिल करने में मदद देने के लिए पाईमा छ्युनच्या ने एक कारखाना स्थापित किया, जहां स्थानीय गरीब लोगों को काम पर रखा जाता है। इससे गरीब परिवारों की मुश्किल स्थिति कम हुई। कारखाने में उन्होंने प्रेरणा-प्रणाली स्थापित की। जिस कर्मचारी ने अच्छे मिट्टी के बर्तन बनाए, उसे ज्यादा वेतन मिलता है। आम तौर पर हर कर्मचारी को एक महीने कम से कम 3 हज़ार युआन की आय मिलती है। सबसे ज्यादा आय प्राप्त वाले को 10 हज़ार युआन से अधिक मिलते हैं।

नांगछ्येन काउंटी की सरकार ने काले मिट्टी के बर्तन बनाने को महत्वपूर्ण प्रशिक्षण परियोजनाओं में शामिल किया। पाईमा छ्युनच्यां के कारखाने ने प्रशिक्षण परियोजना के तहत एक हज़ार से अधिक लोगों का प्रशिक्षण दिया। कारखाने ने प्रतिभाओं के प्रशिक्षण, गरीब लोगों की गरीबी से मुक्ति और समृद्धि की प्राप्ति आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय परिणाम प्राप्त किये।

(श्याओ थांग)

शेयर