चीन सदैव बहुपक्षवाद का समर्थक व रक्षक बना रहेगा

2020-10-07 17:30:16
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाल ही में आयोजित संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की 75वीं वर्षगांठ के शिखर सम्मेलन में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भाषण दिया कि विश्व में मामले ज्यादा अधिक व जटिल हैं। वैश्विक चुनौतियां दिन-ब-दिन बढ़ रही हैं। उनका समाधान करने के लिये वार्ता और सहयोग करने की आवश्यकता है। अंतर्राष्ट्रीय मामलों का समाधान सभी देशों को एक साथ चर्चा के साथ करना चाहिये। एकता व सहयोग पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में विस्तृत सहमति प्राप्त हुई है।

इस वर्ष अचानक से फैली कोविड-19 महामारी ने मानव समाज को बड़ा झटका दिया है। विभिन्न देशों की सामान्य व्यापारिक गतिविधियां अचानक से ठप हो गई और वैश्विक अर्थव्यवस्था भी मंदी में फंस गयी। साथ ही वित्तीय संकट के बाद अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में फैल रहा संरक्षणवाद और गंभीर हो गया। किसी बड़े देश ने एकपक्षवाद के रास्ते पर चलकर महामारी की रोकथाम में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को गंभीरता से चोट पहुंचाई, लेकिन वैश्विक चुनौतियों के सामने चीन एक जिम्मेदारना देश के रूप में निरंतर रूप से बहुपक्षीय सहयोग में ऊर्जा डालता है और विश्व को मंदी से उभारने की कोशिश करता है।

महामारी के प्रकोप के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था का बड़ा नुकसान पहुंचा है। वैश्विक अर्थव्यवस्था का पुनरुत्थान प्राप्त करने के लिये चीन लगातार कार्रवाई कर रहा है। चीन ने विश्व व्यापार संगठन से केंद्रित बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली की रक्षा की, बहुत-से देशों के साथ हरित चैनल स्थापित करके उत्पादन की बहाली में मदद दी, ताकि वैश्विक उद्योग श्रृंखला व आपूर्ति श्रृंखला की स्थिरता को सुनिश्चित किया जा सके। साथ ही चीन ने बेल्ट एन्ड रोड नेटवर्क से संबंधित देशों को महामारी की रोकथाम से जुड़ी सामग्रियां दीं, और उनके साथ व्यापार किया। चीन हमेशा से अपने आर्थिक पुनरुत्थान से वैश्विक आर्थिक पुनरुत्थान करने की कोशिश में जुटा हुआ है।

चंद्रिमा

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories