चीन ने अनेक देशों को महामारी रोकथाम कार्य में मदद दी

2020-09-09 17:04:41
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

कोविड-19 सौ वर्षों में मानव जाति के सामने आयी बड़ी संक्रमित महामारी है। कोविड-19 का मुकाबला करने की प्रक्रिया में चीन ने क्रमशः अनेक देशों को चिकित्सक दल भेजे और उनकी महामारी रोकथाम कार्य में मदद दी। अगस्त माह तक चीन कुल 31 देशों में 33 चिकित्सक दल भेज चुका है।

10 जून को चीनी चिकित्सक दल फिलिस्तीन पहुंचा। फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्री मेइ अल-खेइला ने कहा कि चीन फिलिस्तीन द्वारा चिकित्सक दल भेजने की मांग देने वाला एकमात्र देश है। चीन की तुरंत प्रतिक्रिया से दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक मैत्रीपूर्ण संबंधों का प्रतीक नजर आया।

अफ्रीका के भूमध्यवर्ती गिनी में चीनी चिकित्सकों ने स्थानीय अस्पतालों और राष्ट्रीय प्रयोगशाला का दौरा किया और वहां की महामारी स्थिति के मुताबिक कोविड-19 की रोकथाम का राष्ट्रीय सुझाव पत्र और महामारी मुकाबले में सवाल-जवाब पुस्तक का संपादन किया, जिन्होंने स्थानीय महामारी रोकथाम कार्य की गाइड के लिए मानक गाइड और सुझाव पेश किया। भूमध्यवर्ती गिनी के प्रधान मंत्री फ्रेनसिस्को पसकुल ओबामा असुई ने कहा कि चीनी चिकित्सकों ने उनके देश के लिए आशा की किरण दिखायी है।

दक्षिण सूडान में चीनी चिकित्सक दल ने स्थानीय चिकित्सकों को प्रशिक्षण दिया। बांग्लादेश में चीनी चिकित्सक दल के आने पर स्थानीय मीडिया का ध्यान आकर्षित हुआ। बांग्लादेश के विदेश मंत्री अंक अबदुल मोमन ने कहा कि बांग्लादेश की जनता चीनी चिकित्सकों के आने का बड़ा स्वागत करती है और आभार प्रकट करना चाहती है। हाथ मिलाकर महामारी से लड़ने से चीन-बांग्लादेश मैत्री और प्रगाढ़ हो सकेगी।

चिकित्सक दलों को भेजने के अलावा चीन ने अनेक देशों को सामग्री मदद भी दी और विदेशों के साथ महामारी रोकथाम के अनुभवों को साझा भी किया। कोविड-19 के नेपाल में फैलने के बाद नेपाल स्थित चीनी उद्यमों और नेपाल में काम करने, पढ़ने और रहने वाले चीनी लोगों ने वस्तुओं का चंदा देने, स्थानीय चिकित्सकों को प्रशिक्षण देने, ऑनलाइन उपचार करने आदि विविधतापूर्ण तरीकों से नेपाल के साथ सहयोग किया। नेपाली लोक-सभा के सांसद पमफा बुसाल ने कहा कि चीन के विभिन्न जगत नेपाल की महामारी रोकथाम में सहायता दे रहे हैं, जिससे नेपाली लोग बहुत प्रभावित हुए हैं।

वायरस की कोई सीमा नहीं है और कोई जाति भी नहीं। मानव जाति साझे भाग्य वाले स्वस्थ समुदाय है। इसलिए पूरे विश्व को एकजुट करके सही मायने में महामारी को पराजित करना चाहिए।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories