वैश्विक अर्थव्यवस्था में जान फूंकता अंतर्राष्ट्रीय सेवा व्यापार एक्सपो

2020-09-06 19:26:25
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में नयी जान फूंकने और अन्य देशों के साथ अपने विकास लाभांश को साझा करने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था को कोविड-19 महामारी के विनाशकारी प्रभावों से उबरने में मदद मिल सके। वैश्विक व्यापार और आर्थिक आदान-प्रदान मजबूत करने के लिए चीन ने 4 सितंबर को छह-दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सेवा व्यापार एक्सपो का उद्घाटन किया।

चीन की राजधानी बीजिंग में चल रहा यह अंतर्राष्ट्रीय सेवा व्यापार एक्सपो, महामारी के प्रकोप के बाद पहला अंतर्राष्ट्रीय व्यापार कार्यक्रम है, जिसने दुनिया भर की हजारों कंपनियों को आकर्षित किया है। इससे साफ झलकता है कि चीन ने महामारी पर अच्छे से काबू पाया है, और तमाम देशो और क्षेत्रों को उनकी आर्थिक हालत सुधारने में मदद करने की इच्छा रखता है।

देखा जाए तो कोरोना वायरस महामारी ने वैश्विक व्यापार और आर्थिक गतिविधियों को लगभग रोक दिया है। कई प्रमुख अर्थशास्त्रियों ने तो इस वर्ष वैश्विक व्यापार और आर्थिक विकास में तेज संकुचन का अनुमान लगाया है। फिर भी चीन ने लगभग महामारी पर काबू पा लिया है, उत्पादन और अन्य आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने में कामयाब रहा है, और एक "दोहरे-चक्र" विकास पैटर्न पर ध्यान दे रहा है, जो घरेलू अर्थव्यवस्था ("आंतरिक चक्र") पर केंद्रित है और इसका उद्देश्य घरेलू अर्थव्यवस्था को वैश्विक अर्थव्यवस्था ("बाहरी चक्र") के साथ एकीकरण करना है।

हमें समझना होगा कि "आंतरिक चक्र" में तेजी लाने के लिए घरेलू मांग को बढ़ावा देने से न केवल चीन की समग्र आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि अन्य देशों से वस्तुओं और सेवाओं के लिए एक बड़ा बाजार तैयार होगा, जो विश्व अर्थव्यवस्था को उभारने में मदद करेगा।

वास्तव में, वैश्विक अर्थव्यवस्था में नई जीवन शक्ति फूंकने के लिए, चीन ने तीन प्रमुख अंतरराष्ट्रीय व्यापार एक्सपो को आयोजित करने का फैसला किया है। एक तो चीन अंतर्राष्ट्रीय सेवा व्यापार एक्सपो है, बाकि दो चीन आयात और निर्यात एक्सपो और चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो है।

ये तीन प्रमुख इवेंट स्पष्ट संकेत भेजेंगे कि चीन वैश्विक वैश्वीकरण और बहुपक्षवाद का सरताज है, जबकि अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाएं व्यापार संरक्षणवाद और एकतरफावाद का रास्ता अपना रहे हैं। केवल स्वतंत्र और निष्पक्ष व्यापार और आर्थिक आदान-प्रदान से ही आम विकास हो सकता है, जो बदले में संरक्षणवाद से लड़ने की वैश्विक इच्छाशक्ति को ��जबूत करेगा। भले ही वैश्विक अर्थव्यवस्था इस समय मजबूत मुख़ालिफ़ हवा का सामना कर रही हो, लेकिन कोई भी देश अन्य देशों के साथ व्यापार और अन्य आदान-प्रदान में संलग्न हुए बिना स्थायी विकास हासिल नहीं कर सकता है।

जैसा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय सेवा व्यापार एक्सपो के शिखर सम्मेलन में वीडियो के माध्यम से दिये अपने भाषण में कहा, सभी देशों को वैश्विक सेवा व्यापार के विकास और विश्व अर्थव्यवस्था की त्वरित रिकवरी को बढ़ावा देने के लिए मिलकर काम करना होगा, साथ ही दुनिया के सामने आने वाली कठिनाइयों को दूर करने के लिए भी मिलकर लड़ना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि चीन सेवाओं में वैश्विक व्यापार को बढ़ावा देने वाले गठबंधन की स्थापना का समर्थन करता है।

दरअसल, जैसे-जैसे चीन की अर्थव्यवस्था बढ़ेगी, तो चीन अन्य देशों के साथ, अधिक परस्पर और समृद्ध दुनिया के निर्माण के लिए और अधिक प्रयास करेगा। उदाहरण के लिए, साल 2018 से 2022 तक, चीन को 2.5 ट्रिलियन डॉलर मूल्य की सेवाओं का आयात करने की उम्मीद है और इस तरह वैश्विक सेवा आयात वृद्धि में 20 प्रतिशत से अधिक का योगदान होगा।

इसके अलावा, सेवाओं में चीन की सीमा-पार व्यापार के लिए नकारात्मक सूची चीन इस साल के अंत में जारी करेगा, जो बाहरी दुनिया के लिए सेवा क्षेत्र के संस्थागत उद्घाटन को बढ़ावा देगा, जिससे विदेशी खिलाड़ी घरेलू सेवाओं के बाजार का दोहन कर सकेंगे।

(लेखक : अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories