महामारी और बाढ़ से चीन में अनाज उत्पादन पर वास्तविक प्रभाव नहीं

2020-08-26 11:00:13
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाल ही में कुछ विदेशी मीडिया ने रिपोर्ट की कि बाढ़, कोविड-19 महामारी और चीन-अमेरिका व्यापार विवाद आदि कारणों से चीन में अनाज सुरक्षा मुद्दा दिन-ब-दिन गंभीर हो रहा है। इधर के दिनों में पूरे चीन में खाद्य पदार्थों की बर्बादी का मुकाबला करने वाली गतिविधि की जा रही है, जिससे लोगों को आशंका है कि क्या चीन में 1.4 अरब जनसंख्या को पर्याप्त अनाज मुहैया करा पाना संभव है कि नहीं?

दरअसल, सिलसिलेवार तथ्यों और आंकड़ों से जाहिर है कि बाढ़ और महामारी को खाद्य पदार्थों की बचत से सीधे तौर पर जोड़ना, चीन में खाद्य सुरक्षा संकट पर संदेह करना वैज्ञानिक तर्क नहीं है, और तथ्यों के अनुरूप भी नहीं है।

वास्तव में इस वर्ष कोविड-19 महामारी और बाढ़ की आपदा से चीन में अनाज उत्पादन पर कोई वास्तविक प्रभाव नहीं पड़ा।

चीनी राष्ट्रीय बाढ़ विरोधी जनरल कार्यालय के मुताबिक, इस वर्ष बाढ़ की वजह से 60 लाख 32 हज़ार 6 सौ हेक्टेयर क्षेत्रफल के कृषि उत्पाद प्रभावित हुए, जिनमें बंजर इलाके का क्षेत्रफल 11 लाख 40 हज़ार 8 सौ हेक्टेयर है, जो मुख्य तौर पर यांगत्सी नदी के मध्य व निचले भाग तथा ह्वाई ह नदी क्षेत्र में केंद्रित है। यह इलाका देश भर में कुल बुवाई क्षेत्र का 1 प्रतिशत से कम है।

वास्तव में इस वर्ष चीन में ग्रीष्मकालीन अनाज फसल की वृद्धि साकार हुई। चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, ग्रीष्मकालीन अनाज की कुल पैदावार 14 करोड़ 28.1 लाख टन है, जिसमें साल 2019 की तुलना में 0.9 प्रतिशत का इजाफा हुआ। प्रारंभिक धान की कुल पैदावार 2 करोड़ 72.9 लाख टन रही, जो साल 2019 से 3.9 प्रतिशत बढ़ गयी, यहां तक कि पिछले सात सालों में गिरावट में हुई स्थिति भी बदल चुकी है। अतीत में पूरे साल में शरदकालीन अनाज की पैदावार 70 फीसदी होती थी, अनाज उत्पादन इलाके से देखा जाए, तो 60 प्रतिशत शरदकालीन अनाज उत्तरी चीन में उत्पादित होता है, जो बाढ़ से कम प्रभावित होता है। चीनी कृषि विज्ञान अकादमी की शोधकर्ता न्ये फ़ंगयिंग के मुताबिक, इधर के सालों में आर्थिक विकास और वैज्ञानिक तकनीकी प्रगति से प्राप्त लाभ, विभिन्न आपदा-रोधी कदम, रोपण प्रबंधन की मजबूती आदि कारणों से बाढ़ से पैदा प्रभाव न्यूनतम तक घट गया है।

वहीं, चीनी उप कृषि मंत्री खांग चन ने 20 अगस्त को कहा कि इस वर्ष बाढ़ और महामारी की स्थिति गंभीर होने के बावजूद आपदा विरोधी कदम जबरदस्त हैं और कारगर भी। बाढ़ और सूखे की विपत्ति से कृषि उत्पादन की स्थिर और अच्छी स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं आया है। अगर आने वाले दिनों में बड़ी आपदा नहीं आयी, तो इस वर्ष भी अच्छी फसल प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि चीन की खाद्य सुरक्षा की पूरी तरह से गारंटी है और कीमतें मूल रूप से स्थिर रहेंगी।

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories