अमेरिकी राजनीतिज्ञों ने महामारी के मृत्यु आंकड़ों को झूठा बनाया

2020-05-22 19:49:17
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाल ही में अमेरिकी राजनीतिक वेबसाइट द डेली बीस्ट ने यह सार्वजनिक किया है कि अमेरिकी राजनेता और व्हाइट हाउस के कर्मचारियों ने अमेरिकी सीडीसी तथा विभिन्न स्टेट से नए कोरोना निमोनिया की मौतों की गणना बदलने की मांग की। व्हाइट हाउस के दबाव से अनेक स्टेटों में महामारी के मृतकों की संख्या कम होने लगी है।

उधर, अमेरिका के द हिल के अनुसार कोलोराडो स्टेट में नए कोरोना निमोनिया की मृत्यु गणना का मानक बदल गया है। जिससे इस स्टेट में महामारी के मृतकों की संख्या 1150 से 878 तक कम हुई। स्टेट के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एरिक फ्रांस ने कहा कि पहले प्रस्तुत मरने वाले मामलों में "नए कोरोना निमोनिया से सीधे नहीं मरने वाले" भी शामिल हुए। जो व्हाइट हाउस के कहने के बराबर है।

आम चुनाव की आवश्यकता से अमेरिका के कुछ राजनीतिज्ञों ने पेशेवर आवाज़ों को दबाकर विभिन्न स्टेटों से मरने वाली संख्या को कम करने की मांग की, जो भी आश्चर्यजनक है। सीएनएन ने 21 मई को यूनिवर्सिटी ऑफ मीन्नेसोता के संक्रामक रोग अनुसंधान और नीति केंद्र के हवाले से यह रिपोर्ट दी कि अमेरिका का वर्तमान नए कोरोना वायरस डेटा के मुताबिक कारोबारों और स्कूलों में कामकाज की बहाली नहीं की जानी चाहिये।

यूनिवर्सिटी ऑफ मीन्नेसोता की एक रिपोर्ट के अनुसार वायरस परीक्षण की निगरानी और व्यवस्थित करने के लिए अमेरिकी स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग द्वारा एक विशेष टीम नियुक्त की जानी चाहिए। इसका उद्देश्य है कि अमेरिकी प्रशासन के सभी प्रकार के हस्तक्षेप को हटाया जाए। इस के अतिरिक्त अमेरिकी सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि देश की आर्थिक सुरक्षा के लिए अधिक सटीक वायरस का पता लगाना महत्वपूर्ण है। लेकिन व्हाइट हाउस की वोट खींचने की मंशा के सामने विशेषज्ञों की चिन्ता व्यर्थ है। अमेरिकी राजनीतिज्ञों की आंखों में केवल राजनीतिक हित मौजूद है। और यह भी चर्चा करने योग्य है कि अमेरिका में कुछ पेशेवर वैज्ञानिकों को राजनेता द्वारा दबाया गया। मिसाल के लिए फ्लोरिडा टूडे के अनुसार नये कोरोना वायरस के महामारी की रोकथाम में संलग्न रेबेका जोंस को हाल ही में बर्खास्त किया गया। कारण है कि उन्होंने अमेरिकी अर्थव्यवस्था के फिर से खोलने का समर्थन करने के लिए डेटा बदलने से इनकार किया।

उधर अमेरिकी सरकार ने मतभेद मौजूद होने के बावजूद आर्थिक बहाली शुरू किया। अमेरिकी एनपीआर की रिपोर्ट के अनुसार अभी तक अमेरिका के 50 स्टेटों में आर्थिक प्रतिबंध को हटाया गया है। लेकिन महामारी के फिर से शुरू होने की चिन्ता मौजूद है। आंकड़े बताते हैं कि टेक्सास समेत पाँच स्टेटों में नये पुष्ट मामलों की संख्या फिर से बढ़ने लगी है। वर्तमान में अमेरिका में नये कोरोना वायरस महामारी की मरने वाली संख्या एक लाख तक जा पहुंचने वाली है। लेकिन अमेरिका राजनेता केवल वोटों की चिन्ता करते हैं।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories