चीन अपने वार्षिक लक्ष्यों को साकार करने में सक्षम है

2020-05-22 19:43:02
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

22 मई को उद्धाटित चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा में प्रधानमंत्री ली खछ्यांग की सरकार कार्य रिपोर्ट में आर्थिक वृद्धि दर तय करने के बजाये रोजगार, जन जीवन और गरीबी उन्मूलन को सुस्थिर बनाये रखने के महत्व पर जोर दिया गया। इससे इस वर्ष में चीन की सामाजिक और आर्थिक कार्यों की दिशा दर्शायी गयी है।

अभी तक विश्व भर में नये कोरोना वायरस महामारी का फैलाव फिर भी तेज़ी से चल रहा है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने अप्रैल में अपनी आर्थिक रिपोर्ट में यह पूर्वानुमान लगाया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में इस साल 3% की कमी आएगी। महामारी और वैश्विक व्यापार की अनिश्चितता बढ़ेगी और चीन के विकास में कुछ अप्रत्याशित कारक मौजूद है। इसी स्थिति में इस वर्ष की सरकारी कार्य रिपोर्ट में यह प्रस्तुत किया गया कि 90 लाख नये रोजगार मौके तैयार किये जाएंगे, सभी गरीब लोगों को गरीबी से छुटकारा मिलेगा। ओस्ट्रेलियाई मीडिया वित्तीय समीक्षा ने यह समीक्षा की है कि चीन सरकार ने रोजगार और जन जीवन स्तर को प्राथमिकता दी है। पर इसी के साथ साथ चीन के आर्थिक विकास में प्रमुख वित्तीय जोखिम की रोकथाम और ऊर्जा खपत और प्रदूषक उत्सर्जन नियंत्रण आदि का दबाव रहेगा। इसलिए चीन के खुशहाल समाज के निर्माण में अर्थव्यवस्था, राजनीति, संस्कृति, जीवन और पारिस्थितिक सभी पहलुओं को शामिल किया जाना चाहिये।

चीन सरकार ने इस वर्ष के कार्यों की प्रधानता स्पष्ट की है यानी कारोबारों को स्थिर बनाना, रोजगार को सुनिश्चित करना, बाजार जीवन शक्ति को बढ़ावा देना, घरेलू मांग का विस्तार, आर्थिक विकास मोड में बदलाव तथा गरीबी उन्मूलन का लक्ष्य। सरकार की कार्य रिपोर्ट में कहा गया है कि इस वर्ष घाटे की दर 3.6% से अधिक तक रहेगी, राजकोषीय घाटे में पिछले साल से दस खरब युआन की वृद्धि होगी और दस खरब युआन विशेष एंटी-महामारी सरकारी बांड जारी किया जाएगा। सरकार के आर्थिक कदम से कारोबारों को 25 खरब युआन का खर्च घटेगा जिससे खासकर छोटे व मझौले कारोबारों की मुश्किलों को दूर किया जाएगा। सरकार की कार्य रिपोर्ट ने कालेज छात्रों और किसान श्रम के रोजगार पर विशेष ध्यान दिया है। इस के अलावा रिपोर्ट में घरेलू मांग के विस्तार, लोगों की आजीविका और विस्तृत निवेश को खपत के साथ मिलाने पर जोर दिया गया है।

उधर पाकिस्तान के अंतर्राष्ट्रीय संबंध शोधकर्ता अब्दुल रहमान शाह का मानना है कि महामारी की वजह से चीन का आर्थिक विकास धीमा तो रहेगा, लेकिन अर्थव्यवस्था का फिर से तेज विकास जरूर किया जाएगा। क्योंकि चीन सरकार की दीर्घकालीन योजना है। चीनी अर्थव्यवस्था की सुनिश्चित तौर पर बहाली होगी। बेशक चीन की मजबूत आर्थिक नींव, विशाल बाजार और तमाम चीनी जनता की एकता के सहारे चीन अपने वार्षिक लक्ष्यों को साकार करने में सक्षम होगा और विश्व के आर्थिक विकास के लिए अपना नया योगदान पेश करेगा।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories