पारंपरिक जातीय सांस्कृतिक कौशल से गरीबी उन्मूलन में जुटी रही एनपीसी प्रतिनिधि शी लीफिंग

2020-05-22 17:29:14
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

13वीं एनपीसी के तीसरे पूर्णाधिवेशन में भाग ले रही प्रतिनिधि शी लीफिंग

13वीं एनपीसी के तीसरे पूर्णाधिवेशन में भाग ले रही प्रतिनिधि शी लीफिंग

चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा (एनपीसी) की प्रतिनिधि शी लीफिंग ने 22 मई को पेइचिंग में कहा कि पारंपरिक जातीय सांस्कृतिक कौशल गरीब लोगों को गरीबी की दलदल से बाहर निकाल कर समृद्ध रास्ते पर ले जाने की महत्वपूर्ण शक्ति बन जाएगी।

शी लीफिंग दक्षिण पश्चिमी चीन के क्वेइचो प्रांत के सोंगथाओ म्याओ जातीय स्वायत्त कांउटी वासी हैं, जो स्थानीय म्याओ जातीय कढ़ाई की सातवीं पीढ़ी वाली उत्तराधिकारी हैं।

म्याओ जाति के पारंपरिक शैली वस्त्र आज तक सुरक्षित है, कपड़े पर सुन्दर कढ़ाई की जाती है और म्याओ जाति के लोग चमकदार चाँदी आभूषण पहनते हैं। म्याओ जातीय वस्त्र बनाने के दौरान कढ़ाई जरूरी है, जो चीनी राष्ट्र स्तरीय गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत है।

शी लीफिंग और अपने दल के सदस्यों के साथ कढ़ाई करते हुए

शी लीफिंग और अपने दल के सदस्यों के साथ कढ़ाई करते हुए

शी लीफिंग ने 8 सालों में पारंपरिक म्याओ जातीय कढ़ाई से संबंधित सामग्रियों को संग्रह किया। साल 2008 में उन्होंने म्याओ जातीय कढ़ाई का एक दल स्थापित किया, जिसमें बेरोज़गार महिलाएं, गांववासी आदि शामिल हैं। शी लीफिंग अपने दल में सदस्यों को म्याओ कढ़ाई की कौशल सीखाती हैं। 12 सालों में इस दल के सदस्य 4 हज़ार तक पहुंच गए। उन्होंने उंगलियों की इस कौशल को अर्थतंत्र तक बदला। वर्तमान में शी लीफिंग और अपने साथियों द्वारा बनाए गए म्याओ कढ़ाई वाले उत्पादों को 67 देशों और क्षेत्रों तक निर्यातित हो चुके हैं।

क्वेईचो प्रांत में गरीब जनसंख्या ज्यादा तौर पर पहाड़ी क्षेत्र में बसती है, जहां भूवैज्ञानिक आपदा कभी-कभार आती है और यातायात बहुत असुविधापूर्ण है। शी लीफिंग के मुताबिक, इधर के सालों में गरीबी उन्मूलन कार्य पर जोर दिया जाता है, ज्यादा से ज्यादा गरीब लोग पहाड़ी क्षेत्र से बाहर स्थानांतरित होकर शहर में जीवन बिताने लगे है। वे 100 गरीबी उन्मूलन कार्यशाला स्थापित कर महिलाओं को कौशल सिखाती हैं। सूई और धागे के माध्यम से पहले गरीब जीवन में पड़े म्याओ जाति के लोग अब समृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं।

म्याओ जाति की कढ़ाई

म्याओ जाति की कढ़ाई

बताया गया है कि सोंगथाओ म्याओ कढाई जैसे पारंपरिक जातीय सांस्कृतिक कौशल के बराबर, क्वेइचो में 5 लाख से अधिक महिलाएं रोजगार मिल गईं।

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories