चीन में माऔनान जाति की गरीबी उन्मूलन कहानी

2020-05-21 15:40:44
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/8

दक्षिणी चीन के क्वांगशी ज्वांग स्वायत्त प्रदेश की ह्वानच्यांग काउंटी में रहने वाली माऔनान जाति चीन में सबसे दुर्लभ जनसंख्या वाली 28 जातियों में से एक है, और माऔनान जाति के 70 प्रतिशत लोग इसी काउंटी में रहते हैं।

ह्वानच्यांग काउंटी क्वांगशी ज्वांग स्वायत्त प्रदेश में 20 सबसे गरीब काउंटियों में से एक है। पर वर्ष 2019 के अंत तक इस काउंटी में गरीबी दर 1.48 प्रतिशत तक कम हो गई और इसी वर्ष के मई माह में ह्वानच्यांग काउंटी गरीबी काउंटी की नामसूची से बाहर हो गई।

ह्वानच्यांग काउंटी के समर्थक चीनी विज्ञान अकादमी ने वर्ष 2005 के दिसंबर में इस काउंटी में कार्स्ट पारिस्थितिक अनुसंधान स्टेशन स्थापित किया जिससे इस क्षेत्र में अनवरत विकास का तकनीकी सहारा किया गया है। तकनीशियनों की सहायता से ह्वानच्यांग काउंटी में "हरित पारिस्थितिक गरीबी उन्मूलन" और "विशेष उद्योग गरीबी उन्मूलन" के मॉडल से आर्थिक वन फल तथा चीनी हर्बल दवा रोपण और प्रसंस्करण उद्योग का विकास किया गया है। चीनी विज्ञान अकादमी के शोधकर्ता जंग फ़ू पींग ने कहा कि गरीबी उन्मूलन का मतलब केवल पैसा देना नहीं है, पर प्रौद्योगिकी और उद्योग के माध्यम से इस क्षेत्र की संसाधन दक्षता को बढ़ाकर मौलिक रूप से गरीबी खत्म किया जाना चाहिये।

अब ह्वानच्यांग काउंटी के अधिकांश किसान रेशम कीड़े और पशुओं का पालन करने तथा चाय को रोपण करने आदि के उद्योगों में लगे हुए हैं। आर्थिक विकास से इस काउंटी में रहने वाले माऔनान जातीय लोगों का जीवन बदल गया है। अब तक इस काउंटी में सभी माऔनान जातीय लोगों को गरीबी से मुक्त कराया जा चुका है।

( हूमिन )

शेयर