महामारी के प्रकोप के बावजूद चीन की आर्थिक बहाली में गति

2020-05-20 20:01:37
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सन 2020 चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा और चीनी जन राजनीतिक सलाहकार सम्मेलन का आयोजन होने वाला है। मौके पर महामारी फैलने की स्थितियों में चीन में आर्थिक विकास पर विशेष ध्यान रखा गया है।

महामारी के फैलाव से चीनी अर्थव्यवस्था की दबाव प्रतिरोधी शक्ति और स्वयं-मरम्मत क्षमता दर्शायी गयी है। महामारी का फैलाव रोके जाने के बाद चीन की आर्थिक बहाली में तेज़ी आयी है। मिसाल के तौर पर अप्रैल में अपेक्षाकृत बड़े औद्योगिक कारोबारों के अतिरिक्त मूल्य की वृद्धि दर 3.9% तक रही। इस दौरान निर्यात रकम में 8.2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई। इस के साथ ही चीन के कारखानों में उत्पादन बहाली होने लगी और लोग फिर एक बार सड़कों में शॉपिंग और यात्रा करने आये हैं। मई दिवस के दिनों में चीन के विभिन्न स्थलों में पर्यटकों की संख्या 11.5 करोड़ तक जा पहुंची।

और तो और चीन में औद्योगिक आधार, पर्याप्त मानव पूंजी, सही रसद तथा परिवहन सुविधाएं आदि से देश के दीर्घकालिक आर्थिक विकास का सहारा लिया जाएगा। और चीन निरंतर रुपांतर के माध्यम से नवाचार को बढ़ाकर आर्थिक शक्तियों को उजागर कर रहा है।

इसी दृष्टि से विश्व में चीनी बाजार के प्रति विश्वास भी नहीं बदला है। रिपोर्ट है कि चीन और जर्मनी दोनों देशों के बीच वाणिज्यिक चार्टर उड़ानें शुरु की जा रही हैं जो दोनों देशों के व्यापारियों के लिए सुविधाएं तैयार करेंगे। अनेक बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने भी चीन में पूंजीनिवेश लगाना शुरू किया है। चीनी उद्योग और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार लगभग 40% विदेशी-वित्त पोषित उद्यमों ने निकट भविष्य में चीन में निवेश बढ़ाने की योजना बनायी है।

चीन में आर्थिक बहाली होने से वैश्विक आर्थिक विकास में शक्ति डाली गयी है। ब्रिटिश "फाइनेंशियल टाइम्स" के अनुसार अप्रैल में अमेरिकी शेयर बाजार में तेजी आने के पीछे भी चीन की आर्थिक बहाली का कारण मौजूद है।

उधर चीनी सरकार को यह महसूस है कि आर्थिक विकास के सामने अभूतपूर्व चुनौती भी मौजूद है। इसलिये चीन सरकार ने रोजगार और जन जीवन की गारंटी करने के लिए सिलसिलेवार कदम उठाये हैं। अनुमान है कि चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा के दौरान आर्थिक विकास के मुद्दे पर लोकमत का फोकस बनेगा।

चीन में महामारी की रोकथाम करने और आर्थिक बहाली करने में प्राप्त अनुभव दूसरे देशों के लिए भी मददगार है। फ्रांस के पेरिस नम्बर आठ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पीयर पिकार्ट ने कहा कि चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा तथा चीन के आर्थिक प्रदर्शन पर विश्व का ध्यान आकर्षित है। चीन के निर्णय से चीन के भावी आर्थिक विकास पर प्रभाव पड़ेगा और इससे विश्व भी प्रभावित होगा। वर्ष 2020 में चीन गरीबी उन्मूलन और खुशहाल समाज का निर्माण करने का लक्ष्य साकार करेगा। और चीन की 13वीं पंचवर्षीय योजना भी समाप्त हो जाएगी। चीन के विकास से वैश्विक अर्थव्यवस्था में भी स्थिर शक्ति डाली जाएगी।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories