टिप्पणी:चीन की एक्शन से वैश्विक महामारी-रोधी कार्य का आत्मविश्वास बढ़ा

2020-05-19 17:28:08
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

18 मई की रात को 73वें विश्व स्वास्थ्य महासभा के वीडियो सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने व्याख्यान देते हुए यह आहवान किया कि हमें हाथ मिलाएं और मानव स्वास्थ्य समुदाय के निर्माण के लिए साथ-साथ काम करें। शी ने अपने व्याख्यान में महामारी की रोकथाम में चीन के अनुभवों को साझा किया और वैश्विक महामारी-रोधी कार्यों के बारे में पांच सूत्रीय कदम घोषित किये, जिससे वैश्विक महामारी-रोधी कार्य का आत्मविश्वास बढ़ाया गया है।

इससे पहले की 26 मार्च को जी20 समूह के नये कोरोना वायरस-रोधी विशेष वीडियो शिखर सम्मेलन में शी ने भी चार सूत्रीय सुझाव पेश किये। एक महीने बाद विश्व में महामारी की स्थितियां और बिगड़ने लगी जो 210 देशों व क्षेत्रों में फैलाया गया है। महामारी से मृत्यु संख्या भी तीन लाख को पार गयी है। शी चिनफिंग के व्याख्यान में प्रस्तुत छह सुझाव से पहले के जी 20 शिखर सम्मेलन में प्रस्तुत चार सूत्रीय पहल की मूल भावना को जारी रखा गया है। शी ने अपने सुझाव में यह पेश किया कि महामारी की रोकथाम में जनता और जानी सुरक्षा को प्राथमिकता देनी चाहिये और महामारी को रोकने की पूर्वशर्त पर सुव्यवस्थित तौर पर आर्थिक बहाली की जानी चाहिये। उन्होंने महामारी की रोकथाम में विश्व स्वास्थ्य संगठन की भूमिका पर जोर दिया। इधर के समय में अमेरिका के कुछ राजनीतिज्ञों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की निरंतर आलोचना की और इस संगठन को अपनी वित्तीय सहायता को भी बन्द किया। उधर शी ने जोर देते हुए कहा कि महामारी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय सहयोग और जीवन बचाने का समर्थन करने के लिए डब्ल्यूएचओ का समर्थन करना ही चाहिये।

इसके अलावा शी चिनफिंग ने विकासमान देशों खासकर अफ्रीकी देशों की सहायता देने के महत्व पर जोर दिया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ने भी कहा कि महामारी से निपटने की क्षमता अंततः दुनिया की सबसे कमजोर चिकित्सा प्रणाली पर निर्भर करती है। शी चिनफिंग ने अपने व्याख्यान में यह घोषित किया कि चीन दो सालों में दो अरब अमेरिकी डॉलर अंतर्राष्ट्रीय सहायता प्रदान करेगा, संयुक्त राष्ट्र संघ के साथ सहयोग कर चीन में वैश्विक मानवतावादी आपातकालीन भंडारण और हब का निर्माण करेगा, तीन चीन-अफ्रीका अस्पताल सहयोग तंत्र स्थापित करेगा, और जी20 देशों के साथ-साथ "सबसे गरीब देशों की ऋण राहत पहल" का कार्यांवयन करेगा।

चीन के सुझावों का अंतर्राष्ट्रीय लोकमतों की तरफ से उच्च मूल्यांकन किया गया है। लाओस के चिकित्सा मंत्री बोंगकोंग स्वहावोंग ने कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा प्रस्तुत मानव स्वास्थ्य समुदाय के निर्माण की पहल प्रशंसनीय है। मिस्र के काहिरा अमेरिकन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर नोहा बक्र ने कहा कि चीनी नेता ने अफ्रीकी देशों को अधिक सहायता का सुझाव देकर लोगों पर गहरी छाप छोड़ी है। उधर अमेरिका की पत्रिका पोलिटिको ने भी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के व्याख्यान की प्रशंसा प्रकट की।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ट्रडोस ने अपने भाषण में कहा, "जब एकता विचारधारा के फर्क को हरा देती है, तो सब कुछ संभव है।" संयुक्त राष्ट्र महासचिव और अनेक देशों के नेताओं ने भी कहा कि महामारी से लड़ने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सहयोग को मजबूत किया जाना चाहिये।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories