शी चिनफिंग ने दूसरे चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो के उद्घाटन समारोह में भाषण दिया

2019-11-05 14:36:34
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
4/9

दूसरे चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो 5 नवम्बर को चीन के शांगहाई शहर में उद्घाटित हुआ। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने उद्घाटन समारोह में भाषण दिया।

अपने भाषण में शी ने विभिन्न देशों से खुले सहयोग, नवाचार और साझा करने वाले विश्व अर्थतंत्र का सह-निर्माण करने की अपील की और मानव के समान भाग्य वाले समुदाय की स्थापना के लिए योगदान पेश किया जाएगा। शी ने जोर देते हुए कहा कि आर्थिक भूमंडलीकरण ऐतिहासिक रुझान है। विश्व में ऐसा देश नहीं है जो अकेले से सभी समस्याओं को दूर करने में समर्थ है। विभिन्न देशों को मानव हित को प्राथमिकता देने का विचार अपनाना चाहिये, न कि अपने हित को मानव हित के ऊपर रखा जाए। शी ने कहा कि हमें हाथ में हाथ डालने पर डटा रहना चाहिये और संरक्षणवाद का डटकर विरोध करना चाहिये। हमें अच्छी तरह संपदा अधिकार संरक्षण को बढ़ावा देना चाहिये, न कि ज्ञान की नाकाबंदी लगाने से प्रौद्योगिकी अंतर का विस्तार किया जाए। हमें समावेशी और आपसी लाभ वाले विकास के भविष्य की खोज करनी चाहिये, और संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मुताबिक स्थापित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की रक्षा कर बहुपक्षीय व्यापार के केंद्रीय मूल्य और बुनियादी सिद्धांत पर डटा रहना चाहिये, ताकि विकास का लाभ और अधिक देशों व जनता तक पहुंचाया जाए।

गत वर्ष आयोजित प्रथम आयात एक्सपो में शी चिनफिंग ने चीन के खुलेपन का विस्तार करने वाले पाँच कदम घोषित किये। एक वर्ष बाद इन सभी का कार्यांवयन किया गया है। जैसे विदेशी निवेश कानून जल्द ही प्रभावित होगा, बाजार पहुंच से पहले राष्ट्रीय उपचार तथा नकारात्मक सूची प्रबंधन प्रणाली लागू की गयी है। और आयात का विस्तार करने के साथ-साथ टैरिफ की कमी की गयी है। 5 नवम्बर को शी ने अपने भाषण में एक बार फिर जोर देते हुए कहा कि चीन रुपांतर और खुलेपन के बुनियादी सिद्धांत पर डटा रहेगा और नवाचार और विकास के जरिये उच्च स्तरीय खुली नीति कायम करेगा। शी ने कहा कि चीन आयात की भूमिका को और अधिक महत्व देगा और चुंगी के स्तर को और निम्न करेगा। चीन आयात-निर्यात, माल व सेवा व्यापार, द्विपक्षीय व्यापार व निवेश तथा व्यापार और उद्योगों के समन्वित विकास को बढ़ाएगा। साथ ही चीन अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू कारकों के मुक्त प्रवाह और बाजार के गहन एकीकरण को बढ़ावा देगा।

शी ने यह भी कहा कि चीन विश्व व्यापार संगठन में जरूरी रुपांतर करने का समर्थन देता है और दूसरे देशों के साथ उच्च मापदंड वाले स्वतंत्र व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर करने को तैयार है। चीन यूरोप के साथ निवेश समझौते, चीन-जापान-दक्षिण कोरिया स्वतंत्र व्यापार समझौते तथा चीन-खाड़ी सहयोग संगठन स्वतंत्र व्यापार समझौते की वार्ता में तेज़ी लाएगा। चीन सक्रियता से संयुक्त राष्ट्र, जी 20 समूह, एशिया व प्रशांत आर्थिक सहयोग संगठन तथा ब्रिक्स आदि संरचना में भाग लेकर वैश्विकरण के विकास को बढ़ावा देगा। चीन भविष्य उन्मूख विकास की विचारधारा के मुताबिक नवाचार रणनीति कायम करेगा। चीन निरंतर रूप से संरचना के समायोजन से उच्च गुणवत्ता वाले आर्थिक विकास को बढ़ावा देगा और विश्व के लिए और अधिक आर्थिक मौका तैयार करेगा। विश्वास है कि चीन में आर्थिक विकास का शानदार भविष्य होगा।

( हूमिन )

शेयर