तिब्बत के विशेष शिक्षा में कृत्रिम बुद्धि तकनीक का इस्तेमाल

2019-10-17 16:18:29
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/7

15 अक्तूबर को यानी 36वें अंतर्राष्ट्रीय ब्लाइंड दिवस से पहले तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की राजधानी ल्हासा के विशेष शिक्षा स्कूल में ऐआई यानी कृत्रिम बुद्धि तकनीक का इस्तेमाल नजर आया।

ल्हासा शहर में स्थित इस विशेष शिक्षा स्कूल में 224 छात्र अध्ययन कर रहे हैं, जिनमें 52 नेत्रहीन छात्र भी हैं। चीन के बाईडू कंपनी ने इन छात्रों के जीवन में सुधार लाने के लिए "ऐआई लाइब्रेरी" और "ऐआई छात्रावास" उपलब्ध करवाया है। नेत्रहीन छात्रों की शिक्षा में कुछ विशेष कठिनाइयां मौजूद हैं। इस तकनीक से छात्रों को ऐआई तकनीकी उपकरणों से चीनी इतिहास, भौतिक विज्ञान और दूसरी सांस्कृतिक जानकारियां प्राप्त हो सकती हैं। "ऐआई छात्रावास" के जरिये इन छात्रों को जीवन की सुविधाएं मिल रही हैं। उधर, श्रवण बाधित छात्र और अन्य विकलांग छात्र भी "ऐआई लाइब्रेरी" के माध्यम से आसानी से पढ़ सकते हैं।

इस स्कूल के कुलपति यूनदन पींगछो ने कहा कि नेत्रहीन छात्रों का भी अपना-अपना सपना है। उनका भी नये युग के साथ-साथ विकास होना चाहिये। ऐआई तकनीक के इस्तेमाल से विकलांग छात्रों को भी वैज्ञानिक माध्यम से सुखमय जीवन प्राप्त हो सकता है।

( हूमिन )

शेयर