कजाखस्तान के राष्ट्रपति से मिले शी चिनफिंग

2019-09-12 09:56:46
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/4


चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 11 सितंबर को पेइचिंग में पहली बार चीन की यात्रा पर आए कजाकस्तान के राष्ट्रपति कासिम-जोमार्ट टोकायव के साथ वार्ता की। दोनों नेताओं ने एक स्वर में तय किया कि सहयोग और उभय जीत वाली भावना पर आधारित चीन और कजाखस्तान के बीच स्थाई व्यापक रणनीतिक साझेदारी संबंध का विकास किया जाएगा।

11 सितंबर को दोपहर बाद राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने जन बृहद भवन के बाहर मैदान में राष्ट्रपति टोकायव के स्वागत के लिए रस्म आयोजित की। यह गत जून महीने में राष्ट्रपति बनने के बाद टोकायव की पहली चीन यात्रा है।

वार्ता में शी चिनफिंग ने राष्ट्रपति टोकायव से कहा कि नए चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ की पूर्व संध्या पर आपकी पहली चीन राजकीय यात्रा का स्वागत है। यह हम दोनों के बीच तीन महीनों के बाद फिर एक बार मुलाकात है, जिस से चीन-कजाखस्तान संबंध का उच्च स्तर और विशेषता ही नहीं, बल्कि द्विपक्षीय संबंध के विकास के प्रति दोनों पक्षों के उच्च स्तरीय महत्व और सौहार्द भरी उम्मीदें भी जाहिर हुईं।

शी चिनफिंग ने कहा कि पिछले 70 सालों में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में चीनी जनता ने महान कामयाबियां प्राप्त कीं। चीन राष्ट्रीय महान पुनरुत्थान की ओर आगे बढ़ रहा है। यह प्रक्रिया हमेशा से बेरोकटोक नहीं रहेगी, लेकिन चाहे बाहरी स्थिति में परिवर्तन कैसे आए, चीन अविचल रूप से मेहनत से अपना कार्य करता रहेगा, व्यापक तौर पर सुधार और खुलेपन का विस्तार करेगा और देश में ज्यादा उच्च गुणवत्ता वाले विकास को आगे बढ़ाएगा। चीन विभिन्न तरह की जोखिमों और चुनौतियों को निपटारने में सक्षम है। किसी भी मुसिबतों और कठिनाइयों से हमारे आगे बढ़ने के कदम रूक नहीं सकते। एक स्थिर, खुला और समृद्ध चीन सदैव विश्व के भावी विकास के लिए मौका है।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन कजाखस्तान के साथ मिलकर चतुर्मुखी सहयोग मजबूत करना चाहता है, सिल्क रोड आर्थिक पट्टी और“प्रकाश मार्ग”वाली नई आर्थिक नीति को जोड़ना चाहता है। दोनों देशों के बीच आपसी संपर्क करते हुए थलीय समुद्री रास्ता बेरोकटोक बनाना चाहता है। आर्थिक व्यापारिक सहयोग के स्तर और गुणवत्ता को उन्नत करना चाहता है। उत्पादन क्षमता के सहयोग को आगे बढ़ाना चाहता है। वैज्ञानिक तकनीकी नवाचार और सहयोग का विस्तार करना चाहता है। इसके साथ ही दोनों देशों के बीच मानविकी आदान-प्रदान और स्थानीय आवाजाही को घनिष्ठ बनाना भी चाहता है।

भेंट वार्ता में राष्ट्रपटि टोकायव ने नए चीन की स्थापना की 70वीं वषर्गांठ की बधाई दी और कहा कि पिछले 70 सालों में चीन ने असामान्य प्रक्रिया से गुज़र कर विभिन्न क्षेत्रों में शानदार विकसित कामयाबियां हासिल कीं। इससे न केवल चीनी जनता को लाभ मिला, बल्कि विश्व के विकास और मानव जाति की प्रगति के लिए भी महत्वपूर्ण योगदान दिया गया। यह त्योहार न सिर्फ चीनी जनता के लिए, बल्कि सारी दुनिया के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। विभिन्न देश चीन के विकास पर ध्यान देते हैं।

टोकायव ने कहा कि चीन में सुधार और खुलेपन से कजाखस्तान समेत विभिन्न देशों को मौका मिला है। कजाखस्तान चीन सरकार और चीनी जनता के देश की प्रभुसत्ता, सुरक्षा और विकास हितों की रक्षा का समर्थन करता है और चीन के साथ स्थाई व्यापक रणनीतिक साझेदारी संबंध की स्थापना से लाभ उठाकर दोनों देशों के संबंध को और आगे बढ़ाने को तैयार है।

वार्ता के बाद शी चिनफिंग और टोकायव ने संयुक्त रूप से चीन-कज़ाखस्तान संयुक्त बयान पर हस्ताक्षर किए और वे रेशम मार्ग आर्थिक पट्टी और“प्रकाश मार्ग”वाली नई आर्थिक नीति की जोड़ से संबंधित कुछ द्विपक्षीय सहयोगी संधियों पर हस्ताक्षर करने के साझी बने।

(श्याओ थांग)

शेयर