बॉलिवुड स्टार आमिर खान का मीडिया इंटरेक्शन, सीआरआई के साथ की बातचीत

2019-05-18 19:41:21
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
3/3

“मुझे बेहद खुशी है कि चीन में भारतीय फिल्मों को पसंद किया जा रहा है, यह एक बहुत अच्छी बात है। मेरा मानना है कि यह अपने आप ही शुरु हुई है, और जो चीज अपने आप शुरू होती है, वो ज्यादा मजबूत होती है,” भारत के सुप्रसिद्ध बॉलिवुड स्टार आमिर खान ने चाइना रेडियो इंटरनेशनल (सीआरआई) से बातचीत में कहा।

चीन में 16 से 23 मई तक चलने वाले एशियाई फिल्म और टीवी सप्ताह में भाग लेने से पहले आमिर खान ने पेइचिंग में एक मीडिया इंटरेक्शन किया, जहां उन्होंने सीआरआई से बातचीत की। उन्होंने कहा कि वे चीन की कुछ फिल्मों को भारत में रिलीज करना चाहते हैं, ताकि भारतीय लोग भी चीन के लोगों, कहानियों, संस्कृति के बारे में देख और समझ सकें। उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यह रचनात्मक आदान-प्रदान यकीनन दोनों देशों के लोगों को और नजदीक लाएगा। इसमें मुझे बहुत सारे सकारात्मक फल दिखाई देते हैं।”

बॉलीवुड से चीन तक सांस्कृतिक आदान-प्रदान की शुरुआत करने वाले, आमिर खान की फिल्में दंगल और सीक्रेट सुपरस्टार को चीनी बाजारों में सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्में मानी जाती हैं और वे एक अंतर्राष्ट्रीय स्टार हैं, जिनकी फिल्में चीनी आबादी के बीच सबसे प्रतीक्षित परियोजनाओं में से एक होती हैं। उन्होंने भारत और चीन को फिल्म उद्योग में सहयोग गहराने पर बात की और कहा, “चीन में बहुत ही शानदार रचनात्मक प्रतिभा हैं। मुझे उस दिन की प्रतिक्षा है जब चीन और भारत के रचनात्मक प्रतिभा आपस में मिलकर सही मायने में फिल्म निर्माण में सहयोग कर सकें। यह बहुत ही शानदार होगा, यदि चीन और भारत के प्रतिभावान मिलकर दोनों देशों के लिए प्रासंगिक फिल्में बनाते हैं। उम्मीद है कि ऐसा जल्द होगा।”

सीआरआई से बात करते हुए आमिर खान ने यह भी कहा कि चीन के लोग बहुत ही प्यारे और खुले विचारों वाले हैं। उन्होंने कहा, “भारत में वर्ल्ड सिनेमा ज्यादा नहीं देखा जाता है, जो देखते हैं उनकी संख्या बहुत कम है, जबकि चीन में इसका उलटा है। यहां (चीन) वर्ल्ड सिनेमा ज्यादा देखा जाता है। यहां के आम लोग भी भारतीय फिल्में देखते हैं। इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि चीन के लोग कितने खुले विचारों वाले हैं। यह चीज़ हमें (भारतीय लोगों को) सीखनी चाहिए।”

बॉलीवुड में मिस्टर परफेक्शनिस्ट के नाम से मशहूर आमिर खान उन गिने चुने अभिनेताओं में से एक हैं जो फिल्मों की संख्या के बजाये इसकी गुणवत्ता को अधिक महत्व देते हैं। उनकी फिल्में रिलीज होते ही बॉक्स ऑफिस की शान बन जाती हैं, साथ ही लोगों पर बड़ा असर भी डालती हैं। उन्होंने कहा, “मैं जब भी कोई फिल्म बनाता हूं तो उम्मीद करता हूं कि उसका दर्शकों पर कड़ा प्रभाव पड़े और मैं बड़ा खुशनसीब रहा हूं कि मुझे कई अच्छे निर्दशकों और लेखकों के साथ काम करने का मौका मिला है, जो बहुत ही सुंदर कहानियां लेकर आए हैं। उसमें से कुछ कहानियां सामाजिक मुद्दों पर भी हैं।”

उन्होंने बताया कि उन्हें यह सुनकर बहुत अच्छा लगता है कि उनकी फिल्मों से लोगों की जिंदगी पर बड़ा प्रभाव पड़ा है। इस बारे में उन्हें अपने फैंस, दोस्तों और सोशल मीडिया से पता चलता है। उनकी हमेशा इच्छा रहती है कि वे लोगों में प्यार और उम्मीद जगा सकें। उन्होंने कहा, “होप (उम्मीद) बहुत ही सुंदर भावनाओं में से एक है और बहुत ही सकारात्मक भी है। मैं अपनी फिल्मों के जरिए प्यार और उम्मीद फैलाना चाहता हूं।”

(अखिल पाराशर)

शेयर