सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

(इंटरव्यू) भारत-चीन संबंध में तीव्रता आयी है : भारतीय राजदूत

2019-05-02 14:13:31
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

(इंटरव्यू) भारत-चीन संबंध में तीव्रता आयी है : भारतीय राजदूत

(इंटरव्यू) भारत-चीन संबंध में तीव्रता आयी है : भारतीय राजदूत

पिछले साल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग ने द्विपक्षीय एवं अंतरराष्ट्रीय महत्व के विषयों पर विचारों के आदान-प्रदान के लिये मध्य चीन के हुपेई प्रांत की राजधानी वुहान में प्रथम अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इस शिखर सम्मेलन ने ‘वुहान भावना’ को जन्म दिया।

इस ‘वुहान भावना’ को आगे बढ़ाते हुए चीन स्थित भारतीय दूतावास और भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (आईसीसीआर) ने हुपेई प्रांत व वुहान सरकार के समर्थन से 29 अप्रैल को वुहान शहर में “भारत के रंग” नामक भारतीय सप्ताह का आयोजन किया। इस गतिविधि के उद्घाटन समारोह में वुहान शहर के उप मेयर छेन श्येशिन, चीन में भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री, वुहान में पढ़ाई कर रहे भारतीय विद्यार्थी, मीडियाकर्मी और भारतीय संस्कृति के प्रेमी समेत लगभग 800 लोग शामिल हुए।

इस समारोह के बाद, चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने चाइना रेडियो इंटरनेशनल (सीआरआई) को दिए एक ख़ास इंटरव्यू में कहा, “पिछले साल वुहान में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच एक अनौपचारिक शिखर सम्मेलन हुआ। चूंकि इस शिखर सम्मेलन को एक साल हो गया है तो उसी के उपलक्ष्य में हम यहां आए हैं और एक कार्यक्रम का आयोजन भी किया है। ”

राजदूत मिस्री का मानना है कि अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के बाद से चीन और भारत दोनों देशों के संबंधों में तीव्रता आयी है। चीन की तरफ से कई कैबिनेट स्तर के मंत्री भारत गये हैं, और भारत से भी कई कैबिनेट स्तर के मंत्री चीन आए हैं। रक्षा क्षेत्र में भी दोनों देशों के संबंधों को और बढ़ावा मिला है।

123MoreTotal 3 pagesNext

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories