पेइचिंग में रेशम मार्ग राष्ट्रीय संग्रहालय के कर्तव्य की चर्चा की गयी

2019-04-12 18:44:40
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6

11 अप्रैल को विश्व का संग्रहालय प्रधान मंच पेइचिंग के चीनी राष्ट्रीय संग्रहालय में उद्घाटित हुआ। विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से आए लगभग सौ संग्रहालय से जुड़े विद्वानों व प्रतिनिधियों ने रेशम मार्ग से जुड़े राष्ट्रीय संग्रहालयों के कार्य व कर्तव्य की चर्चा की। देशी-विदेशी सभ्यताओं के आदान-प्रदान से भविष्य में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग पर विचार-विमर्श किया गया।

24 देशों व क्षेत्रों से आए लगभग 40 अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालयों के प्रधानों व प्रतिनिधियों ने चीन के 30 प्रांतों और हांगकांग व मकाओ विशेष प्रशासनिक क्षेत्रों के 46 प्रांतीय संग्रहालयों के प्रधानों के साथ उसी दिन चीनी राष्ट्रीय संग्रहालय में आयोजित मंच के उद्घाटन समारोह में भाग लिया। इस बार मंच का मुद्दा है रेशम मार्ग से जुड़े राष्ट्रीय संग्रहालय के कार्य व कर्तव्य है।

चीनी राष्ट्रीय सांस्कृतिक विरासत ब्यूरो के प्रधान ल्यू यूचू ने उद्घाटन समारोह में भाषण देते समय कहा कि संग्रहालय विश्व सभ्यता के आदान-प्रदान व एक दूसरे से सीखने, रेशम मार्ग से जुड़े देशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान को मजबूत करने में विशेष भूमिका अदा करते हैं। चीन सरकार सांस्कृतिक विरासतों की रक्षा व प्रयोग पर बड़ा ध्यान देती है, और संग्रहालय कार्य को एक राष्ट्रीय रणनीति बनाएगी।

चंद्रिमा

शेयर