टिप्पणीः विश्व के साथ आतंक विरोधी संघर्ष के अनुभव साझा करेगा चीन

2019-03-18 19:21:36
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

आतंकवाद मानव समाज का समान दुश्मन है, जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा समान प्रहार करने का लक्ष्य है। उग्रवादी विचार के फैलाव से आसानी से हिंसक घटनाएं पैदा होंगी, जो लोगों के मानवाधिकार पर सीधी धमकी होंगी। चीन सरकार द्वारा 18 मार्च को शिनच्यांग में आतंकवाद के विरोध, उग्रवाद दूर करने के संघर्ष और मानवाधिकार की गारंटी पर श्वेत पत्र जारी किया। उपरोक्त वाक्य श्वेत पत्र की शुरूआत में लिखे गये हैं।

आतंकवादी और उग्रवादी विश्व के लिए समान खतरा हैं। अपूर्ण आंकड़े बताते हैं कि 2018 में विश्व के विभिन्न स्थलों में कुल 1100 आतंकवादी हमले हुए, जिन से 13000 लोग मारे गये।

चीन सरकार द्वारा इस श्वेत पत्र के जारी होने से तीन दिन पहले न्यूजीलैंड ने सबसे अँधेरा दिन गुजरा। दो मस्जिदों में हुए आतंकी हमलों में 50 लोगों की मौत हुई है। जबकि अपराधी ने ट्विटर पर लेख जारी कर श्वेत वर्चस्व की चरम विचारधारा की घोषणा की।

उग्रवादी विचारधारा को कैसे रोकें विभिन्न देशों के सामने चुनौती पूर्ण कार्य है। विभिन्न देश खुद की परिस्थिति के मुताबिक आतंकवादियों पर प्रहार करने के वैश्विक लड़ाई में आदान प्रदान करते हैं, सहयोग करते हैं और सबक लेते हैं। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का जिम्मेदार सदस्य होने के नाते चीन भी इस में सक्रिय रूप से भाग लेता है। चीन सरकार के इस श्वेत पत्र में शिनच्यांग में आतंकवाद विरोधी संघर्ष के अनुभव का निचोड़ किया गया है, साथ ही उग्रवादी विचार के प्रभाव को दूर करने और स्थानीय लोगों के आर्थिक व सामाजिक क्षमता को उन्नत कर जोड़ने के ठोस कदमों का परिचय दिया गया। यह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ आतंकवाद विरोधी संघर्ष के अनुभव का आदान प्रदान करने की अहम कार्यवाही है।

श्वेत पत्र ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को चीन के आतंकवाद विरोधी संघर्ष के तीन ठोस माध्यमों व उपायों पर प्रकाश डाला। यानी कि रोकथाम प्राथमिकता है, अहम क्षेत्र प्रमुख है और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग जरूरी है।

रोजगार का विस्तार करना, शिक्षा का प्रसार करना, चिकित्सा गारंटी देना, जन-जीवन में सुधार करने के कदम शिनच्यांग में आतंकवाद से रोकथाम करने की अहम कार्यवाइयां हैं। श्वेत पत्र में बताया गया कि शिनच्यांग ने कानून के मुताबिक शिक्षण व प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना की है। जिस में प्रशिक्षुओं को व्यावसायिक कौशल प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि प्रशिक्षु आतंकी प्रभाव से छुटकारा पा सकें। शिनच्यांग के शिक्षण व प्रशिक्षण केंद्र चीनी उपायों से लोगों को व्यावसायिक कौशल प्रशिक्षण देता है, जिसका मकसद अपराधों को रोकना है।

शिनच्यांग चीन के आतंकवाद विरोधी संघर्ष का मुख्य क्षेत्र है। 20वीं शताब्दी के 90 के दशक से शिनच्यांग में हजारों हिसंक आतंकी घटनाएं घटित हुईं, जिनमें अनेक बेगुनाह आम लोग मारे गए। शिनच्यांग ने आतंकी संघर्ष को खास क्षेत्र, खास जाति और खास धर्म से नहीं जोड़ा। शिनच्यांग में आतंकवाद विरोधी कार्य स्थानीय नागरिकों के धार्मिक विश्वास का पूरा सम्मान करता है। इस कार्यवाई को उपलब्धियां मिली हैं। शिनच्यांग में क्रमशः दो साल में कोई भी हिंसक कार्रवाई नहीं हुई।

इस के साथ शिनच्यांग ने पड़ोसी देशों के साथ विविध आतंकवाद विरोधी सहयोग तंत्रों की स्थापना की, जिन में सूचना आवाजाही, संयुक्त सीमांत प्रबंध, आतंकियों की तलाशी और आतंकी वित्तपोषण का विरोध करना आदि शामिल हैं। शिनच्यांग में चीन के आतंकी विरोधी संघर्ष को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की मान्यता व समर्थन मिला है।

आज के शिनच्यांग में लोग खुशी से रहते हैं। देश विदेश के पर्यटक आते जाते हैं। लेकिन शिनच्यांग में जातीय अलगाववादी शक्ति, उग्रवादी शक्ति और हिंसक आतंकी शक्ति तीन शक्तियों का असर अब भी मौजूद है। जब विभिन्न देश राजनीतिक आपसी विश्वास को प्रगाढ़ कर एक साथ प्रहार करेंगे, तो शिनच्यांग में स्थायी शांति हासिल हो सकेगी। शिनच्यांग वैश्विक आतंकी संघर्ष में सक्रिय योगदान दे सकेगा।

(श्याओयांग)


शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories