आतंकवाद विरोधी संघर्ष में विभिन्न देशों के सहयोग की जरूरत

2019-01-12 14:48:47
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

10 जनवरी को चाइना मीडिया ग्रुप(सीएमजी) द्वारा आयोजित सातवीं रेशम मार्ग मशहूर व्यक्तियों की चीन यात्रा चीन के शिनच्यांग में जारी है। तुर्की, मिस्र, बांग्लादेश, पाकिस्तान और श्रीलंका आदि एक पट्टी एक मार्ग से जुड़े छह देशों के मशहूर पत्रकारों ने शिनच्यांग वेवुर स्वायत प्रदेश का दौरा किया और आतंकवाद केस प्रदर्शनी को देखा। प्रदर्शनी को देखने के बाद उन्होंने कहा कि आतंकवाद मानव जाति का समान शत्रु है। विभिन्न देशों को सहयोग कर समान निपटारा करना चाहिए। चीन सरकार ने प्रबल कदम उठाया है। आशा है कि शिनच्यांग में स्थायी शांति बरकरार रखी जा सकेगी।

गौरतलब है कि गत् 90 के दशक से कुछ जातीय अलगाववादी शक्तियों, उग्र धार्मिक शक्तियों और हिंसक आतंकी शक्तियों ने शिनच्यांग में हजारों विस्फोट घटनाओं की रचना की और सिलसिलेवार हिंसक आतंकी हमले किये, जिन से बड़े पैमाने पर बेगुनाह आम लोगों की मौत हुई और कई सौ पुलिसकर्मी मारे गये हैं। लोगों को भारी आर्थिक नुकसान भी पहुंचा। प्रदर्शनी को देखने के बाद पाक एफएम 98 चीन-पाक मैत्री चैनल के होस्ट बाबर ने जोर दिया आतंकवादी का धार्मिक विश्वास से कोई संबंध नहीं है। इस्लाम धर्म शांतिप्रिय धर्म है। हम किसी भी व्यक्ति के इस्लाम धर्म के नाम से आतंकी कार्यवाइयां करने का विरोध करते हैं।

श्रीलंकाई अख़बार लकनदीपा के पत्रकार सानदुन कामागे ने कहा कि चीन सरकार ने शिनच्यांग की स्थायी शांति के लिए अनेक काम किये हैं। आज शिनच्यांग की शांति व सुन्दरता आसान बात नहीं है।

अफगानी केंदहर ओर्बेन्द के प्रमुख संपादक अमीरी ने आशा जताई की कि चीन अफगानिस्तान का आतंकवादी विरोधी कार्य को सफल अनुभव दे सकेगा।

बांग्लादेश के अख़बार डेली सन के कार्यकारी संपादक शियाबुर रहमान ने कहा कि आतंकवाद को जड़ से मिटाने के लिए विभिन्न देशों को हाथ मिलाकर सहयोग करना चाहिए। आतंकवाद की समस्या एक विश्वव्यापी समस्या है, यह किसी एक देश की समस्या नहीं है। इसलिए आतंकवाद पर प्रहार करने में विभिन्न पक्षों को सहयोग करना चाहिए।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories