टिप्पणीः बौद्धिक संपदा संरक्षण विचारधारा चीनी लोगों के दिल में बसी

2019-01-11 17:13:12
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

इधर के दिनों में चीन के विभिन्न क्षेत्रों के बौद्धिक संपदा ब्यूरो के प्रमुखों ने पेइचिंग में एकत्र होकर 2018 कार्य का निचोड़ किया और इस साल के बौद्धिक संपदा संरक्षण के मिशन की तैनाती की। ताकि तकनीकी नवाचार और आर्थिक उच्च गुणवत्ता वाले विकास को आगे बढ़ाया जा सके।

चीन में सुधार व खुलेपन की नीति लागू होने के पिछले 40 सालों में खास तौर पर 2008 में चीन में राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा के सामरिक कार्यक्रम लागू होने के बाद चीन ने पेटेंट कानून, ट्रेडमार्क कानून और कॉपीराइट कानून आदि सिलसिलेवार कानूनों व नियमों के संशोधन को आगे बढ़ाया और खास बौद्धिक संपदा के अदालतों की स्थापना भी की। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भी अनेक स्थलों पर बौद्धिक संपदा के संरक्षण को मजबूत करने पर जोर दिया और कहा कि यह बौद्धिक संपदा संरक्षण तंत्र को परिपूर्ण करने के सब से अहम विषय है, जो चीनी आर्थिक प्रतिस्पर्द्धा शक्ति को उन्नत करने की सब से बड़ी प्रेरणा भी है।

आंकड़े बताते हैं कि 2018 के अंत तक चीन में आविष्कार पेटेंटों की संख्या 16.02 लाख तक पहुंची, जो 2017 की तुलना में 18.1 प्रतिशत अधिक रही। देश में कारगर ब्रांड पंजीकृत मात्रा 1.8049 करोड़ थी, जो 2017 की तुलना में 32.8 प्रतिशत अधिक रही।

इन सब ने साबित किया है कि चीन सच्चे माइने में बौद्धिक संपदा का एक बड़ा देश बन चुका है। बौद्धिक संपदा की रक्षा करना नवाचार की रक्षा करना ही है। इस तरह की विचारधारा चीनियों के दिल में बस चुकी है। गत नवम्बर में पहले चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो में विश्व के उद्यमों ने कुल 100 से ज्यादा नयी तकनीकें और नये उत्पाद जारी किए। वे न सिर्फ चीनी बाजार को महत्व देते हैं, बल्कि वे बौद्धिक संपदा की रक्षा में चीन के प्रयास और इस में प्राप्त उपलब्धियों को भी देखते हैं।

निसंदेह चीन में बौद्धिक संपदा की रक्षा अभी भी निरंतर परिपूर्ण होने की प्रक्रिया में है। चीन में और उच्च स्तर और बड़े पैमाने वाले सुधार व खुलेपन लागू होने के लिए बौद्धिक संपदा की रक्षा करने की आवश्यक्ता भी है।

2019 में चीन बौद्धिक संपदा की जांच गुणवत्ता को और उन्नत करेगा और बौद्धिक संपदा के संरक्षण में जोर देगा। साथ ही चीन बौद्धिक संपदा क्षेत्र में समग्र निगरानी को मजबूत कर इस क्षेत्र के अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को गहरा करेगा।

ज्यादा से ज्यादा चीनी उद्यमों के विदेश जाने के साथ चीन भी आशा करता है कि विदेशी सरकारें चीनी उद्यमों के बौद्धिक संपदा के संरक्षण को भी मजबूत करेंगी। चीन में नवाचार क्षमता के निरंतर बढ़ने के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय समुदायों को चीनी बौद्धिक संपदा की रक्षा करने में भी जोर देना चाहिए।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories