चीन में प्रवासी भारतीय दिवस की धूम

2019-01-10 19:09:21
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
5/8

15वां प्रवासी भारतीय दिवस बुधवार 9 जनवरी को चीन सहित विश्व भर में मनाया गया। भारत के विकास और उत्थान में योगदान देने वाले तमाम प्रवासी भारतीयों ने इस दौरान हुए कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। चीन की राजधानी बीजिंग में भी इस मौके पर भारतीय दूतावास और इंडियन कम्युनिटी इन बीजिंग के तत्वावधान में शानदार आयोजन हुआ। जिसमें बड़ी संख्या में चीन में रहने वाले प्रवासी भारतीय लोगों ने शिरकत की।

इस अवसर पर चीन में भारत के नए राजदूत विक्रम मिस्री ने कहा कि पिछले एक दशक से अधिक समय से भारत सरकार और विदेशों में स्थित मिशन इस दिवस का सफल आयोजन कर रहे हैं। उन्होंने चीन में रह रहे सभी भारतीयों से आग्रह किया कि वे भारत का बेहतरीन प्रतिनिधित्व करते हुए चीन-भारत संबंधों को मजबूत बनाने में अपना योगदान दें।

मिस्री ने कहा कि यह दिवस राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 1915 में भारत वापस लौटने की याद दिलाता है। गांधी जी भारत के सबसे महत्वपूर्ण प्रवासी कहे जा सकते हैं, जो दक्षिण अफ्रीका में अपना सक्रिय शुरुआती जीवन बिताने के बाद भारत वापस लौटे और भारत के राष्ट्रीय आंदोलन व आज़ादी में सत्याग्रह और अहिंसा को मजबूत हथियार बनाया।

बकौल मिस्री इस बार का प्रवासी भारतीय दिवस और भी ज्यादा विशेष है, क्योंकि इस साल महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनायी जा रही है।

प्रवासी दिवस पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन हुआ। जबकि चीनी युवती होउ वेई द्वारा गाए गए गांधी जी के प्रिय भजन, वैष्णव जन तो, ने माहौल गांधीमय बना दिया। राजदूत मिस्री ने होउ वेई को ’वैष्णव जन तो’ गाने के लिए प्रशंसा पत्र भेंट कर सम्मानित भी किया। वहीं इंडियन कम्युनिटी की ओर से आयोजित बैडमिंटन प्रतियोगिता के विजेताओं को भी पुरस्कार बांटे गए।

कार्यक्रम में भारतीय राजदूत के अलावा उनकी पत्नी डॉली मिस्री, दूतावास में डीसीएम एक्विनो विमल, मिनिस्टर एम.के.झा(काउंसलर एंड एजुकेशन) समेत कई राजनयिक व गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। कार्यक्रम का उद्घाटन जदूत विक्रम मिस्री और इंडियन कम्युनिटी इन बीजिंग की अध्यक्ष प्राची गुप्ता द्वारा किया गया।


यहां बता दें कि भारत के विकास और कल्याण में प्रवासी भारतीयों के योगदान को याद करने के लिए प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है। इस दिवस की शुरुआत साल 2003 में दिल्ली में हुई थी। पिछले कई वर्षों में 14 बार इस विशेष दिवस का आयोजन किया जा चुका है। इस बार प्रवासी भारतीय दिवस का मुख्य आयोजन 21 जनवरी से 23 जनवरी तक वाराणसी में किया जाएगा। बताया जाता है कि मॉरीशस के प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे। इस बार के दिवस की थीम है, नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीय समुदाय की भूमिका।


अनिल आज़ाद पांडेय

शेयर