पेइचिंग में “कलर्स ऑफ़ इंडिया” की रंगारंग प्रस्तुति

2019-01-05 14:16:04
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/15

भारत ये वर्ष महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती मना रहा है। इसके साथ ही चीन और भारत के रिश्तों में आई गर्माहट की वजह से बीते कुछ वर्षों में चीन और भारत एक दूसरे देशों में तरह तरह के सांस्कृति कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे हैं जिससे दोनों देशों के लोगों को एक दूसरे देश को समझने और संबंधों को प्रगाढ़ बनाने में मदद मिल रही है। इसी खास मौके पर शुक्रवार शाम 04 जनवरी 2019 को चीन की राजधानी पेइचिंग में भारतीय दूतावास ने एक रंगारंग कार्यक्रम “ भारत के रंग ” यानी कलर्स ऑफ़ इंडिया का आयोजन किया जिसमें आईसीसीआर के माध्यम से चीन में आए भारतीय कलाकारों और चीनी स्कूल के बच्चों ने अपनी प्रतिभा का रंग बिखेर कर समारोह में चार चांद लगा दिया। साथ ही इस विशेष अवसर पर चीनी अतिथियों और दर्शकों के साथ विदेशी अतिथियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। समारोह में महात्मा गांधी के जीवन से जुड़ी एक फोटो प्रदर्शनी भी लगाई गई थी। योग और भारतीय शास्त्रीय नृत्य का प्रदर्शन किया गया जिसने दर्शकों की खूब वाहवाही बटोरी।

समारोह की शुरुआत भारतीय दूतावास में डीसीएम के पद पर आसीन अक्वीनो विमल के भाषण के साथ शुरु हुई उनके भाषण के बाद चीनी गणमान्य डिप्लोमेटिक मिशन ब्यूरो के महानिदेशक श्री युआन वेईमिन ने भाषण दिया इसके बाद भक्ति संगीत और नृत्य से कलर्स ऑफ़ इंडिया की शुरुआत हुई। सीमा दामले, दीप्ति पारीख और लोकेश्वरी दासगुप्ता ने पेश किया इस प्रस्तुति के बाद अर्पिता अग्रवाल, लोकेश्वरी दासगुप्ता और रेश्मिता नाथ की नृत्य और योग की मिलीजुली प्रस्तुति ने नृत्य और योग के समागम को बहुत अच्छे तरीके से दिखाया, चीनी स्कूल के बच्चों ने चीनी ओपेरा की प्रस्तुति दी जिसने दर्शकों की खूब तालियां बटोरीं। इस विहंगम प्रस्तुति के बाद दो चीनी कलाकारों ने सितार और तबले पर संगति की लियु हुईयुआन ने सितार बजाया और छुआंग चिंग ने तबला बजाया, इस प्रस्तुति को देख भारतीय दर्शकों की खुशी का ठिकाना न रहा कि कैसे चीनी कलाकारों ने भारतीय वाद्य यंत्रों पर भारतीय शास्त्रीय संगीत की धुन निकाली।

“भारत के रंग ” कार्यक्रम में चीनी और भारतीय संगीतकारों की संगति सबके आकर्षण का केन्द्र रही जिसे राहुल महाजन और चीनी ड्रमर यांग तुंग के साथ सीमा दामले और दीप्ति पारिख ने पेश किया, बाद में रेश्मिता नाथ की भरतनाट्यम प्रस्तुति ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम के अंत में कलाकारों को पुरस्कार वितरित किया गया।

ये समारोह कितना सफल रहा इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पूरा हॉल अतिथियों से खचाखच भरा था। इतने सफल तरीके से भारत के रंग समारोह के आयोजन के लिये भारतीय दूतावास के अधिकारी और कर्मचारी भी बधाई के पात्र हैं जिनके अथक परीश्रम की वजह से चीन में “कलर्स ऑफ़ इंडिया” का चीन में आयोजन किया गया।

पंकज श्रीवास्तव

शेयर