टिप्पणी:चीन के पेइ तो उपग्रह नेविगेशन व्यवस्था की विश्व में सेवा शुरु

2018-12-28 16:32:58
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

27 दिसंबर से चीन के पेइ तो नंबर 3 उपग्रह नेविगेशन व्यवस्था की विश्व में सेवा शुरू हुई। यह अमेरिका के जीपीएस, रूस के ग्लोनास और यूरोपीय संघ के गैलीलियो व्यवस्था के बाद विश्व की चौथी बड़ी उपग्रह नेविगेशन व्यवस्था है और विश्व के लिए चीन का एक और योगदान भी है।

वर्ष 2000 में पहला पेइ तो परीक्षण उपग्रह छोड़े जाने से अब तक के 18 वर्षों में चीन ने लगातार 4 परीक्षण उपग्रह, पेइ तो नंबर 1, नंबर 2, नंबर 3 समेत 43 उपग्रह छोड़ा, जिससे चीन और एशिया प्रशांत क्षेत्र, "एक पट्टी एक मार्ग" प्रस्ताव से संबंधित क्षेत्र यहां तक की वैश्विक उपग्रह नेविगेशन पोजिशनिंग सिग्नल कवरेज किया गया है।

अमेरिका की स्पेसएक्स कंपनी के संस्थापक एलन मस्क ने ट्विटर पर कहा कि अंतरिक्ष क्षेत्र में चीन की प्रगति अद्भुत है।

लेकिन इस तरह की प्रगति मुश्किल से मिली है। चीन को लंबी प्रक्रिया से गुज़रने के बाद ये उपलब्धियां मिलीं हैं। अब पेइ तो नंबर 3 उपग्रह ने भी लघु संदेश भेजने और संदेश ग्रहण करने की सुविधा को बनाए रखा है, जिससे वह एक अंतरिक्ष-आधारित व्यवस्था है जो पोजिशनिंग, नेविगेशन, टाइमिंग, कम्युनिकेशन फंक्शन को एकीकृत करता है।

पेइ तो उपग्रह नेविगेशन व्यवस्था के प्रवक्ता के अनुसार पेइ तो व्यवस्था की वैश्विक सेवा की उप्लब्धता 95 प्रतिशत से भी अधिक है, वैश्विक पोजिशनिंग की सटीकता 10 मीटर तक पहुंचती है और एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सटीकता 5 मीटर है। पेइ तो उच्च परिशुद्धता बुनियादी उत्पादों को दुनिया भर के 90 से अधिक देशों और क्षेत्रों को निर्यात किया गया है, जो चिप, मॉड्यूल, टर्मिनल, सॉफ्टवेयर, सर्विस एकमुश्त आवेदन समाधान प्रदान किया जा सकता है।

अब तक पेइ तो व्यवस्था व्यापक रूप से सर्वेक्षण और मानचित्रण, परिवहन, समुद्री नौवहन, कृषि, वानिकी, पशुपालन, मत्स्य, भूमि की निगरानी, खनन अन्वेषण, और सार्वजनिक कार्य जैसे क्षेत्रों में उपयोग की जाती है। इस व्यवस्था के उपयोग से उपग्रह नेविगेशन चिप्स, स्मार्ट फोन, ई-कॉमर्स, स्वायत्त ड्राइविंग, स्मार्ट सिटी समेत उपग्रह पोजीशनिंग तकनीक को लागू करने वाले औद्योगिक आर्थिक श्रृंखला को जन्म दिया गया, जो मज़बूती से चीन के आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने में कारगर है।

सूत्रों के अनुसार वर्ष 2020 तक चीन 11 पेइ तो नंबर 3 उपग्रह और 1 पेइ तो नंबर 2 उपग्रह छोड़ेगा। 2035 पेइ तो व्यवस्था के केंद्र वाला और व्यापक, अभिसरण और कार्यात्मक एकीकृत स्थिति नेविगेशन समय व्यवस्था स्थापित होगी।

(वनिता)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories