जी 20 शिखर सम्मेलन में शी चिनफिंग की उपस्थिति का परिचय

2018-12-03 09:32:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

जी 20 शिखर सम्मेलन में शी चिनफिंग की उपस्थिति का परिचय

चीनी विदेश मंत्रालय के अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था विभाग के प्रधान ने 1 दिसंबर को अर्जेंटीना में मीडिया को जी 20 शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति शी चिनफिंग की उपस्थिति का परिचय दिया।

इस वरिष्ठ पदाधिकारी के मुताबिक जी 20 का शिखर सम्मेलन अंतर्राष्ट्रीय स्थितियों में तेज़ परिवर्तन होने, संरक्षणवाद और एकतरफावाद उभरने, आर्थिक मौके व चुनौतियां साथ-साथ रहने की स्थितियों में आयोजित हुआ। जी 20 सदस्यों ने ब्यूनस आयर्स शिखर सम्मेलन का घोषणा-पत्र जारी कर विश्व बाजार को सकारात्मक संकेत दिया। चीन ने जी 20 शिखर सम्मेलन के संबंधित कार्यों में सक्रियता से भाग लिया और सकारात्मक भूमिका अदा की। राष्ट्रपति शी ने खुलेपन व सहयोग और बहुपक्षीय व्यापार की व्यवस्था को बरकरार रखने का समर्थन किया, जिसका उपस्थित नेताओं ने समर्थन किया। शिखर सम्मेलन के दौरान चीन ने संबंधित सवालों के विचार-विमर्श में भाग लिया और सम्मेलन की सफलता के लिए महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। चीन ने विभिन्न पक्षों के बीच बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था तथा विश्व व्यापार संगठन के रुपांतर को बढावा दिया। इसके अतिरिक्त चीन ने विश्व अर्थतंत्र की विकास दिशा का नेतृत्व किया। तीन, चीन ने विश्व शासन के लिए अपनी रूपरेखा प्रस्तुत की है। चीन की कोशिश से जी 20 के शिखर सम्मेलन में विश्व आर्थिक शासन में सुधार करने के बारे में धाराएं शामिल की गयी हैं। चार, राष्ट्रपति शी ने जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन तथा पेरिस समझौते के प्रति चीन का अविचल वचन दोहराया।

शी चिनफिंग ने जी 20 शिखर सम्मेलन के दौरान ब्रिक्स देशों के नेताओं के साथ वार्तालाप की और बल देते हुए कहा कि ब्रिक्स देशों को एकजुट होकर विश्व अर्थतंत्र की स्थिरता, विकास व समृद्धि की रक्षा करनी चाहिये। ब्रिक्स देशों की सूचना विज्ञप्ति में बहुपक्षवाद की रक्षा करने और ब्रिक्स देशों के बीच व्यवहारिक सहयोग को बढ़ावा देने आदि धाराएं शामिल हैं। शी ने अपने व्याख्यान में यह सुझाव पेश किया है कि जी 20 के भावी सहयोग में नई तकनीक का प्रयोग शामिल किया जाए। ताकि नई तकनीक के प्रयोग से संकट का सामना किया जा सके और विभिन्न देशों की जनता को कल्याण पहुंचाया जाए। इस मुद्दे को भी शिखर सम्मेलन के घोषणा-पत्र में शामिल किया गया है।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories