शांगहाई के नगर देव छंगहुआंग

2018-11-08 10:30:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn


 

शांगहाई के नगर देव छंगहुआंग

शांगहाई शहर में एक तरफ़ आधुनिकता सराबोर है तो वहीं दूसरी तरफ़ इस शहर ने अपनी विरासत को भी अच्छे से सहेज रखा है। शहर की विरासतों में एक है छंगहुआंग मियाओ मंदिर। छंगहुआंग शांगहाई के नगरदेव हैं और ऐसी मान्यता है कि छंगहुआंग देवता न सिर्फ़ अपने शहर के बाशिंदों की रक्षा करते हैं, बल्कि यहां आने वाले परदेसियों और प्रवासियों की भी रक्षा करते हैं। कहते हैं कि छंगहुआंग ताओ धर्म के देव हैं, शांगहाई में इनका मंदिर शहर बसने के करीब डेढ़ सौ वर्ष बाद बनाया गया। उस समय चीन में मिंग साम्राज्य का प्रभुत्व था। समय के साथ मंदिर की ख्याति बढ़ती गई और इसी के साथ इसके परिसर का भी फैलाव हुआ। आज चीन के कोने कोने से दर्शनार्थी यहां आकर छंगहुआंग देव के प्रति अपनी श्रद्धा भाव प्रदर्शित करते हैं। यहां आने वाले सैलानियों के आकर्षण का केन्द्र आस पास बनीं ढेरों दुकानें हैं जो उपहार की वस्तुएं, खाने पीने की वस्तुएं बहुत ही कम दामों पर बेचती हैं। मंदिर परिसर के आसपास बनी इमारतें प्राचीन चीन का आभास कराती हैं। सभी इमारतों की छतें विशुद्ध चीनी स्थापत्य कला की झलक दिखाती हैं जिनपर खपरैलों के साथ लकड़ी की नक्काशी और लाल-काले-सुनहरे रंग का बेजोड़ सम्मिश्रण है। देखने में बहुत ही खूबसूरत इमारतें सैलानियों को अपनी तरफ़ बरबस आकर्षित करती हैं। दिनभर छंगहुआंग मंदिर, आसपास की गलियां सैलानियों से पटी रहती हैं, तरह तरह के रेस्तरां यहां पर चीन के हर प्रांत के व्यंजन उपलब्ध कराते हैं। बीते कुछ वर्षों में यहां पर विदेशी रेस्तरां भी खुल गए हैं, जिनमें देसी विदेशी सैलानी आपको स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद उठाते दिखेंगे।

अगर आप चीन की स्थापत्य कला, प्राचीन धार्मिक स्थल और चीनी व्यंजनों का स्वाद लेना चाहते हैं तो शांगहाई का छंगहुआंग मियाओ मंदिर आपके लिये एकदम मुफ़ीद जगह है।

 

पंकज श्रीवास्तव

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories