पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल

2018-11-07 09:19:40
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल

पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल6 नवंबर को पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में बहुत चहल-पहल रह। 2 लाख 70 हज़ार वर्ग मीटर के विशाल क्षेत्र में फैले मेला स्थल में तीन हज़ार से अधिक   देसी विदेशी उत्पादकों ने अपनी अपनी विशिष्ट वस्तुओं के साथ उपस्थिति दर्ज कराई। आज हर स्टाल पर खरीदारों की भारी भीड़ दिखाई दी। आपको बता दें कि इस मेले में भारी संख्या में व्यापारी खरीद-फ़रोख्त के लिये आए हुए हैं। इस मेले में उत्पादों के आधार पर उन्हें अलग अलग पवेलियनों में जगह दी गयी है। उदाहरण के लिये उच्च तकनीक स्मार्ट उपकरणों के लिये अलग जगह मुहैया कराई गई है। वहीं, चिकित्सा, फार्मा और हेल्थ सेक्शन के स्टाल अलग पवेलियन में लगे हैं। ठीक इसी तरह सेवा उद्योग, उपभोक्ता वस्तुएं, कृषि और खाद्य वस्तुओं के लिये अलग पवेलियन लगे हैं। यानी उत्पादों पर आधारित हर देश को एक ही पवेलियन में अलग अलग स्टाल दिये गए हैं।

पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल

ऐसे में विभिन्न विकासशील अपने अपने उपभोक्ता आधारित वस्तुओं के साथ यहां पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। उदाहरण के तौर पर प्रशांत महासागर स्थित आठ देश, जिनमें सामोगा, टोगो, वानुआतू भी शामिल हैं, वो अपने यहां उत्पादित, कॉफी, नारियल, समुद्री खाद्य पदार्थ, मेवे का प्रदर्शन अपने स्टालों पर कर रहे हैं। इसके अलावा डिब्बा बंद मछली और कृषि आधारित वस्तुएं भी उनके स्टाल की शोभा बढ़ा रही हैं।

पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल

वहीं विकसित देश अपनी उच्च तकनीक से निर्मित वस्तुओं के साथ इस मेले में भागीदारी कर रहे हैं। उदाहरण के तौर पर फिनलैंड ने अपने देश में बनी बैटरी वीली कार, वर्चुअल रियलिटी वाले उपकरण और वायु गुणवत्ता उपकरणों के साथ मेले में मौजूद हैं। वहीं फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, स्पेन, ऑस्ट्रिया, स्विट्ज़रलैंड अपने अपने देश में बनी वाइन, व्हिस्की, मीट के साथ ही अपने देशों के पर्यटन उद्योग और उच्च तकनीक निर्मित वस्तुओं का प्रदर्शन कर रहे हैं।

पहले चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेले में दूसरे दिन रही चहल-पहल

सारे स्टालों पर लोगों में उत्साह बना हुआ है, क्योंकि पहले ही दिन से चीन के देसी व्यापारी, एक्सपोर्टर और विदेशी व्यापारी भी इन स्टालों पर संपर्क कर रहे हैं। बाद में यही संपर्क व्यापारिक समझौतों में भी तब्दील होने की पूरी संभावना है, क्योंकि यहां प्रदर्शित वस्तुओं की मांग विदेशी बाज़ारों में पहले से ही मौजूद है।
पंकज श्रीवास्तव

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories