पेइचिंग में चीन-जापान उद्यमियों तथा पूर्व वरिष्ठ आधिकारियों की चौथी वार्ता हुई

2018-10-12 15:40:40
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन-जापान उद्यमियों तथा पूर्व वरिष्ठ आधिकारियों की चौथी वार्ता 11 और 12 अक्तूबर को पेइचिंग में हुई। दोनों देशों के उद्यमियों, भूतपूर्व पदाधिकारियों तथा विद्वानों सहित 70 व्यक्तियों ने संगोष्ठी में भाग लिया। उन्होंने एशिया में बुनियादी उपकरणों के निर्माण और चीन-जापान नवाचार सहयोग पर विचार विनिमय किया।

चीन-जापान उद्यमियों तथा पूर्व वरिष्ठ आधिकारियों की बातचीत वर्ष 2015 में जापान में उद्घाटित हुई जो दोनों देशों के बीच नागरिक आदान प्रदान का महत्वपूर्व मंच है। इस साल चीन-जापान शांति व मैत्री संधि के हस्ताक्षर करने की 40वीं जयंती है। इस साल की बातचीत में मुख्य रूप से चीन और जापान के बीच आर्थिक व व्यापारिक सहयोग पर विचार विमर्श किया जा रहा है।

चीनी अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक विनिमय केंद्र के प्रधान जंग पेइ यान ने कहा कि इधर के समय चीन-जापान व्यापारिक संबंधों का अच्छा विकास हुआ है। दोनों के बीच आर्थिक, वित्तीय, प्रौद्योगिक और सांस्कृतिक वार्ता की बहाली होने लगी है। इस वर्ष के पहले आठ महीनों में चीन-जापान व्यापार की 11.2 प्रतिशत वृद्धि हुई। चीन में जापान के प्रत्यक्ष निवेश की 38.7 प्रतिशत वृद्धि हुई। जापान की यात्रा करने वाले चीनी पर्यटकों की संख्या 58 लाख तक रही जो भी 18.7 प्रतिशत अधिक रही। भावी तीन से पाँच सालों के भीतर चीन-जापान संबंधों का विकास करने का सुअवसर होगा। दोनों देशों के लिए अनेक क्षेत्रों में आर्थिक व व्यापारिक सहयोग करने की संभावना मौजूद है। उन्होंने यह भी कहा कि चीन एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण में जापानी उद्यमियों की भागीदारी का स्वागत करता है। दोनों देशों के कारोबार संयुक्त बोली और संयुक्त उद्यम करने के माध्यम से तीसरे देशों के बाजार का विकास कर सकते हैं।

संगोष्ठी में जापान के भूतपूर्व प्रधानमंत्री फूकुदा यासूओ ने कहा कि विश्व का आर्थिक व सामाजिक विकास शांति पर आधारित है। जापान और चीन को अंतर्राष्ट्रीय नियमों की रक्षा करने की जिम्मेदारी उठानी चाहिये। दूसरे जापानी अतिथियों ने भी कहा कि चीन और जापान के बीच अधिक सहयोग करने की बड़ी जरूरत है। दोनों देश सहयोग करने से एशिया और यहां तक सारी दुनिया की समृद्धि के लिए योगदान दे सकेंगे।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories