महाकाव्य नाटक के प्रदर्शन से तिब्बती गांव में परिवर्तन

2018-07-23 10:57:21
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/9

चीन के थांग राजवंश (वर्ष 618 से वर्ष 907 तक) के काल में राजकुमारी वेनछंग की तिब्बत में दाखिल होने की कहानी से आधारित महाकाव्य नाटक “राजकुमारी वेनछंग”वर्ष 2013 से तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में आठ सौ से अधिक बार प्रदर्शित किया जा चुका है। कुल 16 लाख लोगों ने इस नाटक का दर्शन किया है। नाटक में चीनी हान जाति और तिब्बती जाति की संस्कृति, रीति रिवाज़ और प्राकृतिक दृश्यों को दिखाया जाता है।

इस नाटक के 800 से अधिक कास्ट सदस्यों में 95 प्रतिशत तिब्बती किसान और चरवाहे हैं। पिछले 6 सालों में नाटक“राजकुमारी वेनछंग”के प्रदर्शन से तिब्बत में 3 हजार रोजगार के मौके तैयार किये गये हैं। प्रदर्शन में भाग लेने वाले स्थानीय लोग हर महीने में औसतन 3 हजार युआन की अतिरिक्त आय प्राप्त करते हैं। नाटक का प्रदर्शन त्सेचोक्लिंग गांव में किया जाता है, इस से स्थानीय गांववासियों के जीवन में भी भारी परिवर्तन आया है।

( हूमिन )

शेयर