शी चिनफिंग और हसन रोहानी के बीच भेंटवार्ता हुई

2018-06-11 11:14:16
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/2

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 10 जून को छिंगदाओ में ईरानी राष्ट्रपति हसन रोहानी के साथ मुलाकात की।

शी चिनफिंग ने रोहानी के चीन में शांगहाई सहयोग संगठन के छिंगदाओ शिखर सम्मेलन में भाग लेने का स्वागत किया और कहा कि उनकी 2016 में ईरान यात्रा के दौरान चीन और ईरान के व्यापक रणनीतिक साझेदारी की स्थापना की गई। इसके बाद इन दो से अधिक वर्षों में दोनों पक्षों ने घनिष्ठ सहयोग कर दोनों देशों के राष्ट्रपतियों द्वारा प्राप्त आम सहमति को पूरी तरह से लागू किया है। विभिन्न क्षेत्रों में दोनों पक्षों ने सहयोग के समृद्ध परिणाम प्राप्त किए हैं और सांस्कृतिक आदान-प्रदान भी बढ़ा है। चीन-ईरान संबंधों के विकास की बड़ी संभावना है। चीन ईरान के साथ चीन और ईरान के व्यापक रणनीतिक साझेदारी की स्थिरता पर ध्यान देते हुए दीर्घकालिक संबंधों को बढ़ावा देना चाहता है।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन और ईरान को राजनीतिक संबंधों को गहराने के तहत रणनीतिक आपसी विश्वास बढ़ाना, सभी स्तरों पर संपर्कों को मजबूत करना, और एक-दूसरे के मूल हितों से मिलने प्रमुख मुद्दों पर समझना और समर्थन करना चाहिए। दोनों पक्षों को एक-पट्टी एक-मार्ग के अनुसार व्यावहारिक सहयोग के जरिए आतंकवाद विरोध करना, कानून प्रवर्तन और सुरक्षा में सहयोग को बढ़ावा देना और चीन-ईरान दोस्ती को बढ़ाना और सांस्कृतिक आदान-प्रदान और सहयोग को मजबूत करना चाहिए।

शी चिनफिंग ने कहा कि ईरानी परमाणु मुद्दे पर व्यापक समझौता बहुपक्षीयवाद की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। जो मध्य पूर्व और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु अप्रसार प्रणाली में शांति और स्थिरता की रक्षा करने में मदद करता है। इसे प्रभावी ढंग से कार्यान्वित किया जाना चाहिए। चीन लगातार अंतर्राष्ट्रीय विवादों और गर्म मुद्दों के शांतिपूर्ण समाधान का पक्षधर है और बहुपक्षीय ढांचे के भीतर ईरानी पक्ष के साथ सहयोग को मजबूत करते हुए नए प्रकार के अंतरराष्ट्रीय संबंधों के निर्माण को बढ़ावा देना चाहता है।

रोहानी ने कहा कि शांगहाई सहयोग संगठन छिंगदाओ शिखर सम्मेलन के सफल आयोजन पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि दो साल पहले राष्ट्रपति शी चिनफिंग की ईरान यात्रा से दोनों देशों के संबंधों को मजबूती मिली है। ईरान ईरान-चीन के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी के सुचारू विकास से खुश है और दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में व्यावहारिक सहयोग को गहरा करना चाहता है। साथ ही“बेल्ड एंड रोड”के निर्माण के लिए दोनों देशों के बीच सहयोग समझौते को लागू करना चाहता है। वर्तमान में ईरानी परमाणु मुद्दे पर व्यापक समझौते को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ईरान को उम्मीद है कि चीन सहित अंतरराष्ट्रीय समुदाय संबंधित मुद्दों को सही तरीके से संभालने में सकारात्मक भूमिका निभाएगा।

भेंटवार्ता के बाद शी चिनफिंग और हसन रोहानी द्विक्षीय सिलसिलेवार सहयोगी संधियों पर हस्ताक्षर के साक्षी बने।

 

(नीलम)

शेयर