शनचन- एक छोटे मछुआ गांव से बना मेट्रो शहर

2018-05-21 17:35:45
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

इस वर्ष चीन के सुधार और खुलेपन की 40वीं वर्षगांठ है ।दक्षिण चीन स्थित शनचन शहर चीन के सुधार और खुलेपन की खिड़की और साक्षी भी है ।चालीस वर्षो में शनचन एक छोटे मछुआ गांव से एक अंतरराष्ट्रीय मेट्रो शहर बन गया है ।

पिछली सदी के 70 के दशक तक शनचन एक छोटा मछुआ गांव हुआ करता था ।वहां के लोग मुख्य तौर पर मछली पकड़ने पर जीवन यापन करते थे ।वर्ष 1978 से चीन में सुधार और वैदेशिक खुलेपन की नीति लागू हुई और वर्ष 1980 में चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि ने आर्थिक विशेष क्षेत्र की स्थापना की मंजूरी दी ।शनचन चीन के पहले चार आर्थिक विशेष क्षेत्रों में से एक बन गया ।ऐतिसाहिक मौका पकडकर शनचन ने विश्व को चौंकाने वाला करिश्मा कर दिखाया ।

वर्ष 1979 में शनचन का जीडीपी 19 करोड 70 लाख युआन था और प्रतिव्यक्ति जीडीपी सिर्फ 600 युआन था ,जबकि वर्ष 2017 में शनचन की जीडीपी 22 खरब 40 अरब युआन रहा और प्रतिव्यक्ति जीडीपी 1 लाख 83 हजार 100 युआन हुआ ।अब शनचन का जीडीपी हांगकांग के बराबर है ।(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories