बोआओ एशिया मंच:हमारे सामने हैं दोनों मौजूद चुनौती और आशा

2018-04-12 09:08:53
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6
बोआओ एशिया मंच में“भविष्य का यातायात”शीर्षक शाखा मंच आयोजित

इस महीने की 8 से 11 तारिख को बोआओ एशिया मंच का 2018 वार्षिक सम्मेलन दक्षिण चीन के हाईनान प्रांत के बोआओ कस्बे में आयोजित हुआ। इसी दौरान कुछ शाखा मंच में“भविष्य”को थीम बनाकर देसी-विदेशी प्रतिनिधियों ने यातायात, उत्पादन और तकनीक के विकास पर विचार विमर्श किया और कल्पना की।

विश्व के विभिन्न कोने पर रहने वाले हरेक व्यक्ति उत्सुकता से यह जानना चाहता है कि भविष्य में हमारे जीवन में कैसा परिवर्तन आएगा?विज्ञान और तकनीक मानव जाति को किस तरह और कितनी दूरी पर ले जाएंगे?

विज्ञान और तकनीक से जीवन को बदलने की चर्चा करते हुए लोगों के पास सबसे गहरा अनुभव दिन गुना रात चौगुना वाले यातायात तरीके पर केंद्रित है। मौजूदा बोआओ एशिया मंच में“भविष्य का यातायात”शीर्षक शाखा मंच में चीनी वाहन ग्रुप सी.आर.आर.सी के बोर्ड अध्यक्ष ल्यू ह्वालोंग ने कहा कि भविष्य में चीन के रेल यातायात में कई प्रगतियां हासिल होंगी। उन्होंने कहा:“चीन में यातायात का भविष्य बहुत आशाप्रद है। भावी 3 से 5 साल तक चीनी रेल यातायात में कई नये परिवर्तन आएंगे। पहला, साल 2022 में पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक खेल समारोह के दौरान, सीआरआरसी स्मार्ट रेलगाड़ी तैयार करेगी, जो कि तकनीक से प्रबंधन तक इंटेलीजेंट उपलब्ध है। दूसरा, साल 2020 के आसपास, ट्रैक की दूरी में 400 किलोमीटर की परिवर्तनशील हाई-स्पीड रेल लाइन सामने आएगी। सीमा पार परिवहन में ट्रैक परिवर्तन नहीं चाहिए। तीसरा, साल 2020 तक, सीआरआरसी प्रति घंटे में 600 किलोमीटर के मैग्लेव वाहन उत्पादित करेगी। चौथा, 2020 तक ट्रैक यातायात में कार्बन फाइबर वाली नयी सामग्री के प्रयोग में प्रगति मिलेगी। इस तरह ट्रैक यातायात का भविष्य जरूर और सुनहरा होगा।”

चीनी वाहन ग्रुप सीआरआरसी के बोर्ड अध्यक्ष ल्यू ह्वालोंग ने चीन की गति से हमें बताया कि विज्ञान और तकनीक से हमारा भविष्य और उज्ज्वल होगा। वहीं बोआओ एशिया मंच के दौरान“भविष्य में उत्पादन”शीर्षक एक और शाखा मंच में “श्याओ आई”रॉबर्ट के संस्थापक, बोर्ड अध्यक्ष युआन ह्वेइ के विचार में भविष्य में उत्पादन की बुद्धिमत्ता से विश्व में समान समृद्धि की प्राप्ति के लिए मददगार सिद्ध होगा। उन्होंने कहा:“पहली औद्योगिक क्रांति मशीनीकरण थी, दूसरी औद्योगिक क्रांति विद्युतीकरण थी, तीसरी औद्योगिक क्रांति सूचनाकरण थी और चौथी औद्योगिक क्रांति कृत्रिम बुद्धि है। कृत्रिम बुद्धि की मौजूदगी नई वस्तुओं की रचना और पारंपरिक व्यवसायों को नष्ट करने के लिए नहीं है, वह पारंपरिक व्यवसाय के मूल्य को उन्नत करने के लिए मौजूद है। कृत्रिम बुद्धि वाले युग के आगमन पर जाहिर है कि सारी दुनिया समान मौजूदगी वाले काल में प्रवेश कर चुकी है। चीन ने मानव जाति के साझे भाग्य समुदाय वाला विचार पेश किया, मेरे विचार में मानव जाति के और सुनहरे भविष्य के लिए सभी देश और सभी उद्योग के अधिक परिश्रम का समय आ गया है।”

तकनीक से भविष्य के लिए कई चुनौतियां भी पैदा होंगी। इजराइल में प्रौद्योगिकी उद्यमिता के पिता के नाम से मशहूर डिजिटल मुद्रा निवेशक योस्सी वर्दी (Yossi Vardi) ने“नए दौर की औद्योगिक क्रांति”शीर्षक शाखा मंच में संबोधित करते हुए कहा कि नई तकनीक दोधारी तलवार जैसी है, भविष्य के प्रति हमारे दिल में भय होना चाहिए। उन्होंने कहा:“भविष्य की नई तकनीक को देखते समय हमें अपना नजरिया बदलना चाहिए। क्योंकि हरेक नयी तकनीक दोधारी तलवार की तरह है। भविष्य में नयी तकनीक संभवतः मानव जाति की हरेक मांसपेशी व्यवस्था का स्थान भी ले सकती है। इसके साथ ही हमारी मस्तिष्क और तंत्रिका को भी बदल सकती है। नई तकनीक मानव जाति के विचार और बुद्धि को एक बहुत उंचे स्तर पर पहुंचा सकती है, जिसकी कल्पना हमने कभी नहीं की थी। लेकिन इसके साथ ही नई तकनीक मानव के विचार को नियंत्रित कर भी कर सकती है।” 

योस्सी वर्दी ने उदारहण देते हुए कहा कि वर्तमान में तकनीकी विकास रुझान के अनुसार, 20 साल बाद माता-पिता कृत्रिम बुद्धि और नेटवर्क तकनीक से अपने बच्चे के प्रेम और विवाह को नियंत्रण कर सकेंगे। उनके विचार में भविष्य की नई तकनीक के अनुसंधानकर्ताओं को उत्तरदायित्व उठाना चाहिए, ताकि लोग इसका दुरूपयोग करने से बच सके।

चाहे चुनौतियां कितनी भी बड़ी क्यों न हो, भविष्य हमारे करीब पहुंच रहा है। चीनी कंपनी क-ली ग्रुप की बोर्ड अध्यक्ष तोंग मिनचू ने“भविष्य में उत्पादन”शीर्षक शाखा मंच में कहा कि चुनौतियां मौजूद होने की वजह से मनुष्य को सुख की प्राप्ति होगी। उन्होंने कहा:“मेरा विचार है कि भविष्य सुनहरा है। क्योंकि भविष्य में चुनौतियां मौजूद हैं। मनुष्य सभी को नियंत्रित करता है। पता नहीं किसी भी युग में मनुष्य सबसे महान होगा, लेकिन हमें यह पता है कि भविष्य में चुनौतियां बहुत ज्यादा होंगी। प्रयास के बिना हम परिपक्व नहीं हो सकते। चुनौतियां हमेशा प्रमुख विषय रहेंगी। चुनौतियां मौजूद होने से हम सुख महसूस कर सकते हैं। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा था कि सुख मेहनत से आता है। मेरी समझ में उनका यह कथन भविष्य में उत्पादन शक्ति का मतलब ही है।”

क-ली ग्रूप की बोर्ड अध्यक्ष तोंग मिंगचू ने यह भी कहा कि हम भविष्य की चुनौतियों का सामना करने में अच्छे से सक्षम होंगे। भविष्य करीब है, क्या आप तैयार हैं?

(श्याओ थांग)

शेयर