19वीं सीपीसी कांग्रेस का विदेशी विद्वानों ने किया उच्च मूल्यांकन

2017-11-16 14:11:32
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6
इस संगोष्ठी का मुख्य विषय था 19वीं सीपीसी राष्ट्रीय कांग्रेस का चीन और पूरे विश्व पर पड़ने वाला प्रभाव।

19वीं सीपीसी नेशनल कांग्रेस के थिंक टैंक की विचार गोष्ठी का आयोजन 16 नवम्बर को चीन की राजधानी पेइचिंग में हुआ। इसका मुख्य विषय था 19 वीं कांग्रेस का चीन और पूरे विश्व पर पड़ने वाला प्रभाव। इस विचार गोष्ठी में रूस, जापान, भारत, अमेरिका, यूरोपियन यूनियन, पाकिस्तान समेत कई देशों के विद्वानों और राजनयीकों ने हिस्सा लिया। सभी अतिथियों ने चीन की उन्नीसवीं कांग्रेस का उच्च मूल्यांकन किया। सभी देशों के विद्वानों ने एक स्वर में चीन के विकास की भूरि-भूरि प्रशंसा की और चीनी मूल्यों पर आधारित चीनी साम्यवाद की सराहना की।

जहाँ पर जापान पूर्व प्रधानमंत्री फ़ुकुडा यासुओ ने कहा कि वो पहले भी चीन आ चुके हैं लेकिन उस समय का चीन आज के चीन से बहुत अलग था। आज चीन ने न सिर्फ़ प्रगति की है बल्कि कई क्षेत्रों में अभूतपूर्व सफलता हासिल की है। उन्होंने कहा कि आज चीन हाई स्पीड रेलवे नेटवर्क में विश्व में पहले स्थान पर है।

तो वहीं अमेरिकी पूर्व राजनयिक ने बताया कि कैसे उन्होंने चीन को वर्ष 1979 से आजतक बदलते देखा है। चीन में उस समय जहाँ साठ प्रतिशत लोग गरीब थे वहीं आज गरीबों की संख्या सिर्फ चार प्रतिशत ही रह गई है। गरीबी उन्मूलन में चीन ने एक विश्व रिकॉर्ड कायम किया है। अफ्रीकी विद्वान की राय में चीन ने न सिर्फ़ अभूतपूर्व तरक्की की है बल्कि पर्यावरण संरक्षण के लिए भी एक मिसाल कायम की है जिसकी प्रशंसा पूरा विश्व करता है।

भारत से आए सुधीन्द्र कुलकर्णी ने चीन के बेल्ट और रोड परियोजना की जमकर तारीफ की, उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान और चीन को साथ मिलकर काम करना चाहिए क्योंकि यहाँ पर बाजार भी है और तकनीकी विशेषज्ञता भी। सुधीन्द्र जी का पुरज़ोर तरीके से ये मानना है कि अगर हम मिलकर काम करें तो न सिर्फ विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में, बल्कि कृषि, शिक्षा, आधारभूत संरचना और व्यापार वाणिज्य के क्षेत्र में भी हम बहुत आगे निकल सकते हैं। बेल्ट और रोड पर सुधीन्द्र जी ने कहा कि ये न सिर्फ आज के लिए प्रासंगिक है बल्कि आने वाले समय के लिए भी है। उनके अनुसार हमें इस अवसर का लाभ उठाते हुए अपने पूरे क्षेत्र का विकास करना चाहिए।

 पंकज श्रीवास्तव।

शेयर