खबरें

चीन-भारत संबंधों के विकास को भविष्योन्मुख होना चाहिए- स्वरण सिंह

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस आयोजित होने वाली है। पिछले पाँच सालों में यानी चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के आयोजन के बाद से लेकर अब तक

तिब्बत प्राचीन सांस्कृतिक संपत्तियों के संरक्षण पर ज़ोर दे रहा है

तिब्बत स्वायत्त प्रदेश चीन के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक अवशेष संरक्षण वाले प्रांतों - प्रदेशों में शुमार है, जहां विश्व की छत पर रत्न कहा जाने वाला पोताला महल समेत कई हजार ऐतिहासिक अवशेष संरक्षण इकाईयां बसी हुई हैं।

(फोटो) शिन्च्यांग की यानछी कांउटी में लाल रंग का उद्योग

वाइन उद्योग के विकास से स्थानीय रोज़गार की स्थिति में भी सुधार हुआ है। अंगूर उगाने को लेकर हर साल 4500 स्थानीय किसानों को रोज़गार का मिला है। इससे उनकी सालाना आय में 28.8 हजार युआन की अतिरिक्त आय हुई।  

(फोटो) शिन्च्यांग के रंग:वनसू कांउटी में लाल-लाल फल

स्थानीय विभिन्न जातियों के लोगों ने बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण कर वन क्षेत्र को बढ़ाया। 10 हज़ार हेक्टेयर के रेगिस्तान का निपटारा और विकास किया। अखरोट और खजूर दो किस्मों के पेड़ों के उगाने से स्थानीय किसानों की आय में भी वृद्धि हुई।

(फोटो) हूनान प्रांत में जातीय गांव में छात्रों की पढ़ाई

​मध्य चीन के हूनान प्रांत की हुआयुआन कांउटी के शीपा तोंग गांव के फ़ेइछोंग टोले में दो शिक्षा कक्षाएं उपलब्ध हैं। पहली और दूसरी कक्षा में कुल 28 विद्यार्थी पढ़ते हैं।

(फोटो) शीपा तोंग गांव में म्याओ जातीय पारंपरिक कढ़ाई

म्याओ जाति की कढ़ाई राष्ट्र स्तरीय गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत है। मध्य चीन के हूनान प्रांत में हुआयुआन कांउटी के शीपा तोंग गांव में पारंपरिक म्याओ जातीय कढ़ाई का नया विकास मिला है।

(फोटो) मध्य चीन के हूनान प्रांत में फ़सल का मौसम आया

सितंबर महीने में मध्य चीन के हूनान प्रांत में फ़सल का मौसम आ रहा है। इस वर्ष हूनान प्रांत की हुआयुआन कांउटी के शीपा तोंग गांव में शानदार फ़सल हुई। गांववासी चावल की फ़सल काटने में व्यस्त हैं।

छिंघाई-तिब्बत पठार में स्मार्टफोन व इंटरनेट से लोग धार्मिक जीवन का आनंद उठा रहे हैं

छिंगाई-तिब्बत पठार में हर जगह सूत्रचक्र पकड़े हुए प्रार्थना करने वाले तिब्बती लोग देखे जा सकते हैं। वर्तमान में स्मार्टफोन और इंटरनेट के कारण तिब्बती साधु स्मार्टफोन से धर्मग्रंथ का कंठस्थ कर सकते हैं।

तिब्बत में तीर्थयात्रा करने वाले लोग

तिब्बत में एक विशेष दृश्य है कि विभिन्न क्षेत्रों से ल्हासा तक के रास्तों पर तिब्बती बौद्ध विश्वासी अपने अपने गृहनगर से ल्हासा तक के रास्ते पर दंडवत करते हुए आगे बढ़ रहे हैं।

ल्हासा की पुरानी सड़क पर टी हाउस

ल्हासा के केंद्र में स्थित बार्कोर सड़क पर एक क्यीरीचोकांग नामक दो मंजिली इमारत है । अब इस इमारत के ग्राउंड फ्लॉर पर एक टी हाउस है । सुबह से ही बहुत से स्थानीय लोग और पर्यटक यहां मीठी चाय पीना पसंद करते हैं ।

चीनी जेनशेन को विश्व में प्रसिद्ध बनाने के लिए चिलिन प्रांत की कोशिश

चीन में जेनशेन का उत्पादन क्षेत्र पूर्वोत्तर चीन के चिलिन, ल्याओनींग और हेईलोंगच्यांग प्रांत हैं। यह औषधि प्रमुख रूप से चिलिन प्रांत के छांगपाईशान पहाड़ और इसके आसपास के क्षेत्रों, पूर्वोत्तर ल्याओनींग प्रांत के पहाड़ी क्षेत्र, हेईलोंगच्यांग प्रांत के ताशिंग एनलींग और श्याओशिंग एनलींग के वनीय क्षेत्रों में मिलता है।

तिब्बत के लिनची प्रिफेक्चर में वन संरक्षक

​तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के लिनची प्रिफेक्चर के लिनची शहर में देश में सबसे बड़े दायरे वाला जंगली वन क्षेत्र बसा हुआ है, जहां वनों की दर 47.6 प्रतिशत है।

1234NextEndTotal 4 pages