चीन की रोजगार स्थिति स्थिर , 5 वर्षों तक शहरों और कस्बों में नए रोजगार की संख्या हर वर्ष 1 करोड़ 30 लाख से अधिक

cri 2017-08-21 10:52:55
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन के राष्ट्रीय मानव संसाधन व सामाजिक गारंटी मंत्रालय द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 5 वर्षों में आर्थिक वृद्धि दर में बदलाव आने और कार्य-उम्र जनसंख्या की बड़ी राशि की स्थिति में चीन की रोजगार स्थिति फिर स्थिर रही, शहरों और कस्बों में रोजगार की संख्या और नए रोजगार की संख्या बढ़ रही है। राष्ट्रीय मानव संसाधन व सामाजिक गारंटी मंत्रालय के संबंधित प्रधान लिए यी शांग ने कहा कि भविष्य की एक अवधि में रोजगार प्राथमिकता रणनीति लागू करने में कायम रहेगा।

लिए यी शांग ने वर्ष 2011 से राजधानी सामान्य विश्वविद्यालय के कला विभाग से स्नातक होने के बाद पेइचिंग के श्वनयी जिले के लोंग वान थुन कस्बे में गांव अधिकारी का काम शुरू किया था। उसने स्थानीय पुराने पेइचिंग की पारंपरिक शिल्प वस्तुओं के लिए प्रसार का काम किया था। गांव अधिकारी की कार्यसूची खत्म होने के बाद उसने स्वयं का व्यवसाय शुरू किया। इस अनुभव की चर्चा करते हुए उसने कहा कि अनावश्यक रूप से दूसरों से नहीं सीखना चाहिए और तर्कसंगत रूप से खुद को स्थान देना चाहिए। कुछ कंपनी या उद्यम में काम करने के बाद स्वयं का व्यवसाय शुरू करना चाहिए। मेरा अनुभव भी इस तरह है। सबसे पहले मैंने गांव अधिकारी का काम किया था। इस के बाद मैंने दो वर्षों के समय में बाज़ार का अध्ययन किया था। फिर मैंने अपने स्वयं का व्यवसाय शुरू किया।

आंकड़ों के अनुसार पिछले 5 वर्षों में पूरे देश में कर्मचारियों की संख्या सतत् रूप से बढ़ रही है। शहरों और कस्बों में कर्मचारियों की संख्या वर्ष 2012 के अंत की 37 करोड़ 10 लाख से बढ़कर वर्ष 2016 की 41 करोड़ 40 लाख तक पहुंच गई, जो हर वर्ष 1 करोड़ 8 लाख 20 हजार की बढ़ोतरी हो रही थी। 5 वर्षों में शहरों और कस्बों में नए रोजगारों की औसत वार्षिक संख्या 1 करोड़ 30 लाख से भी अधिक रही। शहरों और कस्बों में पंजीकृत की गई बेरोजगारी की दर 4.1 प्रतिशत से भी कम है।

चीन के राष्ट्रीय मानव संसाधन व सामाजिक गारंटी मंत्रालय के प्रवक्ता लू आई होंग ने कहा कि कर्मचारियों की संख्या बढ़ने के साथ रोजगार की संरचना भी सुधार की गई।

उन्होंने कहा कि तीन उद्योग की संरचना में रोजगार के ढांचे में बदलाव आने की बेहतर स्थिति रही है। सेवा उद्योग की वृद्धि दर बहुत तेज़ है। तीन उद्योग में रोजगार की संख्या 43.5 प्रतिशत रही। यह एक बहुत अच्छा ऐतिहासिक बदलाव है। शहरी और ग्रामीण रोजगार के ढांचे में मौलिक परिवर्तन आया है। शहरों और कस्बों में कार्यरत व्यक्तियों का अनुपात बढ़ रहा है, गैर सार्वजनिक अर्थव्यवस्था शहरों और कस्बों में रोजगार का मुख्य स्रोत बन गया है। क्षेत्रीय रोजगार का ढांचा अधिक समुचित है, कर्मचारियों की क्षमता भी उन्नत की गई है।

इस वर्ष के पिछले 6 महीनों में रोजगार की बेहतर स्थिति बनी रही है, शहरों और कस्बों में नए रोजगार की संख्या 73 लाख 50 हजार रही, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि से 1 लाख 80 हजार अधिक रही। इस वर्ष की दूसरी तिमाही के अंत तक पूरे देश में शहरों और कस्बों में पंजीकृत की गई बेरोजगारी की दर 3.95 प्रतिशत रही, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि से 0.1 कम हो गई, यह इधर के वर्षों में निम्नतम स्तर पर है। इस वर्ष की दूसरी तिमाही के अंत तक अपने गृहनगर को छोड़कर बाहर या अन्य क्षेत्रों में काम करने वालों ग्रामीण श्रम की संख्या 17 करोड़ 90 लाख रही, जो पिछले वर्ष की इस अवधि से 2.1 प्रतिशत अधिक रही।

लू आई होंग ने कहा कि अगली अवधि में चीन रोजगार प्राथमिकता रणनीति तथा और सक्रीय रोजगार नीति पर कायम रहेगी।

आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष चीन में विश्वविद्यालों से स्नातक होने के युवाओं की संख्या 79 लाख 50 हजार है, जो इतिहास में सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंचा है। लू आई होंग के अनुसार इस वर्ष के पिछले 6 महीनों से देखा जाए तो रोजगार की कुल स्थिति बेहतर है, लेकिन कुछ युवाओं ने समाज में अपने स्थान स्पष्ट रूप से नहीं देखा और उन की रोजगार ढूंढने की गति धीमी है। लू आई होंग ने कहा कि राष्ट्रीय मानव संसाधन व सामाजिक गारंटी मंत्रालय के कदम उठाकर रोजगार करना चाहने वाले युवाओं को काम करने या इस के लिए तैयारी करने के लिए मदद देगा।

राष्ट्रीय मानव संसाधन व सामाजिक गारंटी मंत्रालय ने कहा कि विश्वविद्यालों से स्नातक हो चुके युवाओं को रोजगार की सेवा करने के महिने, बड़े और मध्य शहरों के साथ संयुक्त रूप से रोजगार भरती हफ्ते जैसे कार्यवाहियों से उन्हें रोजगार देने के लिए सहायता भी दी जाएगी।

(वनिता)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories